अब राजस्थान में भी राहुल गांधी चलेंगे मंदिर वाला फॉर्मूला?

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले राजस्थान मे विधानसभा चुनाव में मंदिर से सियासत वाला फॉर्मूला एक बार फिर से अपनाएंगे. इसकी शुरुआत इसी साल 15 जुलाई के आसपास को प्रदेश के किसी बड़े मंदिर से हो सकती है.

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुतबिक प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने राहुल गांधी के दर्शन के लिए 10 ऐसे महत्वपूर्ण मंदिरों की सूची भेजी है. कांग्रेस आलाकमान ने भेजी गई सूची के आधार पर राहुल गांधी के कार्यक्रम को अंतिम रूप देने में लगी है. जाहिर के 2014 के चुनाव के हाशिए पर आ गई कांग्रेस खुद पर लगी हिंदूविरोधी छाप को हटाने में कोई कोर कसर नही छोड़ रही है.

राहुल गांधी राजस्थान आएंगे, लेकिन कहां और किस धार्मिक स्थल पर जाएंगे यह अभी तय नहीं हो पाया है. राहुल केवल मंदिर ही नहीं बल्कि सभी धार्मिक स्थलों पर जाते हैं और यह आस्था का विषय है राजनीति का नहीं.

प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी पिछले एक महीने से विधानसभा चुनाव की रणनीति के तहत राहुल की यात्रा खाका तैयार करने की कवायद मे जुटे हैं. जयपुर में पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट की ओर से भेजी गई सूची के आधार पर दिल्ली में अशोक गहलोत इसे अंतिम रूप देने मे लगे हैं.

पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की यात्रा के दौरान जिन 10 मंदिरों को चुना गया है, उसका प्रभाव राजस्थान के 8 जिलों की करीब 50 विधानसभा सीटों पर हैं. एआइसीसी को भेजी गई मंदिरों की सूची में पीसीसी ने कैलादेवी मंदिर, तनोट माता मंदिर, करणी माता मंदिर, सालासर बालाजी, ब्रह्माजी मंदिर पुष्कर, गोविंद देवजी, सांवलिया सेठ, त्रिपुरा सुन्दरी को शामिल किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...