अब राज्यसभा में भी एनडीए बनेगी शक्तिमान

0
113

नई दिल्ली। केन्द्र की सत्ता पर काबिज एनडीए सरकार का कुनबा फिर से बढऩे की ओर अग्रसर है। यह सुनकर चौंकिएगा नहीं, क्योंकि, संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा में अब जल्द ही एनडीए की स्थिति मजबूत होने वाली है। हालांकि, एनडीए कितनी शक्तिशाली होगी, यह तो 23 मार्च को होने वाले चुनावों के बाद ही पता चलेगा। लेकिन, मौजूदा राजनीतिक पार्टियों के कद का आकलन किया जाए तो राज्यसभा में एनडीए का बहुमत बढऩा तय है। अभी तक राज्यसभा में एनडीए की कमजोर स्थिति का फायदा विपक्षी पार्टियों ने खूब उठाया है। एनडीए के अहम् बिलों को राज्यसभा में विपक्षी पार्टियों ने अटकाया है। अब राज्यसभा में एनडीए का बहुमत बढऩे से उसकी यह टेंशन तो कम हो जाएगी। हालांकि, राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि राज्यसभा में एनडीए फिर भी बहुमत से कुछ सीटें पीछे रह जाएगा।

नुकसान में कांग्रेस और सपा

राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को सबसे ज्यादा नुकसान होगा। बीजेपी को सबसे ज्यादा फायदा यूपी से होगा। यहां से बीजेपी 7 सीटें जीत सकती है। एसपी यूपी से केवल एक ही उम्मीदवार को राज्यसभा भेज सकती है। अभी तक उनके कुल 6 सांसद थे। राज्य के 403 विधायकों में एसपी के पास अभी केवल 47 विधायक हैं। पार्टी इस एकमात्र सीट के लिए जया बच्चन को नामांकित किया है। कांग्रेस राज्य में बीएसपी का समर्थन कर रही है। उसके पास केवल 7 विधायक हैं। उधर, त्रिपुरा में ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाली भाजपा को राज्यसभा चुनाव में करीब 10 सीटों का काफी फायदा होगा।

फिर भी भाजपा रहेगी बहुमत से दूर

उधर, राज्यसभा चुनावों के लिए भाजपा ने अपने 26 उम्मीदवार घोषित किए हैं। पहली सूची में पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली सहित 8 नाम सामने आए हैं। वहीं दूसरी सूची में 18 उम्मीदवार घोषित किए गए हैं। गौरतलब है कि राज्य सभा के कुल 250 सदस्यों की संख्या में बहुमत का आंकड़ा 126 सीटों का है। राज्य सभा में अभी सदस्यों की कुल संख्या 239 है। अगर बीजेपी और उसके सहयोगी उम्मीद के मुताबिक सीटें जीतते हैं तो वह करीब 100 सीटों के आस-पास होगा। ऐसे में एनडीए मौजूदा संख्या के मुकाबले बहुमत के आंकड़े से कुछ सीटें पीछे रह जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...