इसरो ने नैविगेशन सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1आई लॉन्च किया

0
57
नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आज अपना नेविगेशन सैटेलाइट (आईआरएनएसएस-1आई) लॉन्च कर दिया है। इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सुबह  4.04 बजे पीएसएलवी-सी 41 रॉकेट के जरिए लॉन्च किया गया। आईआरएनएसएस-1आई स्वदेशी तकनीक से निर्मित नेविगेशन सैटेलाइट है।
आईआरएनएसएस-1आई की विशेषताएंं:
आईआरएनएसएस-1आई सैटेलाइट का वजन 1425 किलोग्राम है, इसकी लंबाई 1.58 मीटर, ऊंचाई 1.5 मीटर और चौड़ाई 1.5 मीटर है। इसे 1420 करोड रुपए में तैयार किया गया। आईआरएनएसएस-1आई से नेविगेशन के क्षेत्र में मदद मिलेगी, इसमें समुद्री नेविगेशन के साथ ही मैप और सैन्य क्षेत्र को भी मदद मिलेगी। इसका मुख्य उद्देेश्य देश और उसकी सीमा से 1500 किलोमीटर की दूरी के हिस्से में इसकी उपयोगकर्ता को सही जानकारी देना है। यह सैटलाइट मैप तैयार करने, समय सही पता लगाने, नैविगेशन की जानकारी, समुद्री नैविगेशन के अलावा सैन्य क्षेत्र में भी सहायता करेगा। यह इसरो की आईआरएनएसएस परियोजना की 9वीं सैटलाइट होगी।
गौरतलब है  कि नाविक के तहत इसरो के अभी तक 8 आईआरएनएसएस सैटलाइट छोड़े जा चुके हैं। इनमें आईआरएनएसएस-1एच को छोड़कर अन्य सभी लॉन्च सफल रहे थे। इसरो ने 29 मार्च को जीसैट-6 ए उपग्रह लॉन्च किया था, लेकिन लॉन्चिंग के 48 घंटे बाद ही इसका संपर्क टूट गया था। इससे वैज्ञानिकों और सशस्त्र सेनाओं को काफी झटका लगा था। हालांकि इसरो ने इस नाकामी को भुला नैविगेशन सैटलाइट (आईआरएनएसएस-1आई) लॉन्च किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...