उत्तर कोरिया की प्रगति से खुश हुआ संयुक्त राष्ट्र

न्यूयॉर्क सिटी। परमाणु परीक्षण छोडऩे की बात मानकर उत्तर कोरिया हर किसी के दिल का अजीज बन गया है। अमरीकी प्रशासन ने भी उत्तर कोरिया की तारीफ की थी। 12 जून को अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ भी उनकी इस सम्बंध में ऐतिहासिक वार्ता होगी। इसके इतर संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम के प्रमुख डेविड बीस्ले ने अभी हाल ही में उत्तर कोरिया का दौरा किया था। बीस्ले ने दो दिन राजधानी प्योंगयांग में बिताएं।उन्होंने कहा कि अब उत्तर कोरिया अब विनाश के बजाय सृजन का कार्य कर रहा है। उत्तर कोरिया के नेताओं का भी अब देश की जरूरतों पर सकारात्मक रवैया है। उत्तर कोरिया पोषण मानकों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। उनका मानना है कि वर्ष 1990 में उत्तर कोरिया में जितनी भूख थी, उतनी अब नहीं है।

दुनिया से बदल रहे उत्तर कोरिया के सम्बंध

उन्होंने कहा कि अब उत्तर कोरिया अपना नया और सुनहरा इतिहास लिखने की ओर अग्रसर है। अभी हाल ही के दिनों में उत्तर कोरिया और दुनिया के बाकी देशों के बीच बदलते सम्बंधों से इसे महसूस भी किया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि पिछले साल उत्तर कोरिया सरकार ने परमाणु और मिसाइल परीक्षण किए थे, लेकिन, अब अगले महीने इसके नेता किम जोंग पहली बार अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से मिलेंगे। इस बैठक की जमीन उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के नेताओं की मुलाकात के बाद तैयार हुई है।

सुखद आ रहे बदलाव

डेविड बीस्ले ने 8 से 11 मई तक उत्तर कोरिया का दौरा किया। इस यात्रा में विश्व खाद्य कार्यक्रम की ओर से वित्त पोषित परियोजनाओं का दौरा शामिल था। ये परियोजनाएं दक्षिण ह्वांगे प्रांत में बच्चों की नर्सरी और उत्तर प्योंगयांग प्रांत में एक बिस्कुट कारखाना हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने वहां खेती भी देखी, लेकिन कुल भूमि की सिर्फ पांचवीं भूमि ही कृषि योग्य है। ज्यादातर भूमि पहाड़ी है। इसके अलावा कृषि करने के लिए आधुनिक संसाधन नहीं हैं।

खेतों में अभी भी पुरुष और महिलाएं ही कार्य कर रही हैं। उन्होंने देखा कि पुरुष और महिलाएं गंदगी को फाबड़ों की सहायता से हटा रहे हैं। साथ ही सड़क किनारे तक फसलों को लगा रहे हैं। हालांकि, यह भूख मिटाने और पोषण के लिए पर्याप्त नहीं है। फिर भी यह बदलावा आना सुखद अनुभव है। ज्ञात हो कि वर्ष 1994 से 1998 के बीच उत्तर कोरिया में हजारों लोग अकाल से मारे गए थे।

Read More:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here