एक बार में 35 किलो दूध देने वाली गाय के लिए लगी रहती है लम्बी लाइन

0
39

मेरठ। मेरठ में डेरी व्यवसायी रमेश के पास एक ऐसी गाय है, जिसकी खूबियां जानकर आप दंग रह जाएंगे। इस गाय में खूबिया ही खूबियां हैं। रमेश अपनी इस गाय को डेरी में भीतर बांधकर रखते हैं, किसी को इस गाय से मिलने नहीं देते। गाय को शाम को अंधेरे में बाहर निकालते हैं और उसके बाद उसका दूध निकालते हैं। यह गाय एक बार में 35 लीटर दूध देती है। देशी नस्ल की इस गाय की एक खासियत और है। वह है इसका दूध। इसके दूध में इतनी ताकत है कि कई दिन पुराना पीलिया ये तीन दिन में ठीक कर देती है। स्वदेशी नस्ल की यह गाय न्यूनतम पोषण, आहार एवं प्रतिकूल परिस्थितियों में भी उपयोगी सिद्ध हो रही हैं। रमेश बताते हैं कि आज भारत की प्रसिद्ध नस्लें समाप्ति की ओर हैं। उन्होंने बताया कि यह दुखद है कि एक ओर जहां हमारे यहां की गायों पर विदेशों में भी शोध कार्य चल रहा है। वहीं हमारे देश में गाय राजनीति का केंद्र बन गर्इ है। इस पर जरा भी ध्यान नहीं दिया जा रहा। उनका कहना है कि विदेश में गिर नस्ल पर कार्य करके सिद्ध किया गया कि भारतीय गाय आज दूध देने की दृष्टि से भी सर्वश्रेष्ठ गाय है।

बच्चों के लिए ले जाते हैं लोग

रमेश की इस देशी गाय का दूध अधिकतर उन लोगों के लिए होता है जिनके घर नवजात बच्चों का जन्म होता है। नवजात बच्चों में पीलिया होने की अधिक संभावना होती है। इसलिए लोग इस देशी गाय का दूध अपने नवजात बच्चों को पिलाते हैं।

एक समय में देती है 35 लीटर दूध

रमेष के अनुसार उनकी ये देशी गाय एक समय में 35 लीटर दूध देती है। दोनों समय में मिलाकर 70 लीटर दूध गाय देती हैं। इसके बाद भी इसके दूध मांगने वालों की मांग पूरी नहीं हो पाती है। इसलिए ही वह उन लोगों को दूध देने में प्राथमिकता देते हैं जिनके यहां नवजात बच्चे हैं या फिर जिनके घर में पीलिया का मरीज है।

बोले चिकित्सक

गाय का दूध पीलिया ठीक करने में सहायक हो रहा है। इस बारे में आयुर्वेदाचार्य डा. ब्रजभूशण शर्मा का कहना है कि गाय के दूध में जबरदस्त रोग-प्रतिरोधक क्षमता होती है। यह पीलिया ही नहीं, सभी रोगों को समाप्त करने और रोकने में सहायक होता है।

कैंसर जैसे लाइलाज रोग में असरकारक है तुलसी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...