कर्मचारियों के पैसों को लगाया बिजनेस में..कम्पनियों ने किया 3200 करोड़ का घोटाला

0
103

मुम्बई। देश में पीएनबी घोटाले के बाद एक और बड़ा घोटाला पकड़ में आया है। आयकर विभाग की पकड़ में आया यह टीडीएस घोटाला 3200 करोड़ रुपए का है। आयकर विभाग ने ऐसी 447 कम्पनियों को खोज निकाला है, जिन्होंने अपने कर्मचारियों से टैक्स तो काट लिया, लेकिन सरकार के पास जमा नहीं करवाया। इन कम्पनियों ने कारस्तानी करते हुए कर्मचारियों के काटे गए टीडीएस को अपने व्यापार में ही लगा दिया। यह आंकड़ा अप्रेल 2017 से मार्च 2018 तक का है।
आयकर विभाग की टीडीएस शाखा ने इन कम्पनियों के खिलाफ शिकंजा कसने के लिए जांच करना शुरू कर दिया है। कई कम्पनियों को मामले में नोटिस भी दिए जा चुके हैं। सूत्रों का कहना है कि जल्द ही आयकर विभाग कई लोगों की गिरफ्तारी भी कर सकती है। आयकर विभाग के नियमों के तहत ऐसे मामलों में तीन महीने से लेकर जुर्माने के साथ 7 साल तक की भी सजा का प्रावधान है। आरोपी कम्पनी और जालसाज मालिकों के खिलाफ आईटी एक्ट के पैरा 276बी के तहत कार्रवाई की जा रही है।
आयकर विभाग आईपीसी की धाराओं के तहत धोखाधड़ी और आपराधिक मामले भी दर्ज कर रहा है। सूत्रों का कहना है कि इस घोटाले में एंप्लॉयीज के साथ धोखा किया गया है, इसलिए आईपीसी की धाराएं भी लगाई जाएंगी। आरोपियों में से एक नामी बिल्डर भी है, जो राजनीति से जुड़ा है। कर्मचारियों से काटे गए 100 करोड़ टीडीएस को बिल्डर ने अपने ही बिजनस में निवेश कर दिया। अन्य आरोपियों में प्रॉडक्शन हाउस से लेकर इन्फ्रा कम्पनियों के मालिक तक शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...