कांग्रेस के भारत बंद के धरने में विपक्ष की एकता बिखरी हुई नजर आई

0
42

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद में मोदी के खिलाफ सारा विपक्ष एक साथ एक मंच पर नजर नहीं आया। लेकिन कांग्रेस को बंद में 21 पार्टियों का समर्थन प्राप्त था। रामलीला मैदान में राहुल गांधी के साथ एक मंच पर कई सहयोगी दल के नेता गैरहाजिर रहे । इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है विपक्ष की एकता बिखरी हुई नजर आई। विपक्ष के सबसे बडे दल समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी मंच पर नजर नहीं आए। लेकिन उन्होंने धरने का समर्थन किया था।

इसलिए महागठबंधन का जो ख्वाब पाले हुए उसमें धक्का सा महसूस हुआ। इस आधार पर हम कह सकते हैं कि मोदी के खिलाफ पर कांग्रेस अधूरा विपक्ष लेकर ही धरने पर उतरी है। धरने पर कांग्रेस के साथ शरद पंवार, शरद यादव जैसे नेता शामिल हुए हैं। अखिलेश यादव और मयावती की पार्टी का कोई प्रतिनिधि इस धरने में आना शायद उचित नहीं समझा। लेकिन अखिलेश ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को प्रदेश में हर जिले और तहसील में धरना देने के निर्देश दे दिए थे। वे कार्यकर्ता धरने दे रहे हैं। वहीं कांग्रेस के भारत बंद में आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पैदल मार्च करते हुए नजर आ रहे हैं। जबकि आप ने दिल्ली बंद नहीं किया । पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी विरोध का समर्थन किया था। लेकिन उसने अपने प्रदेश में बंद नहीं करने की बात पहले ही कह दी थी। इन आधारों पर हम कह सकते हैं कि सभी विपक्षी पार्टियां यह जानती है कि इस प्रदर्शन का सारा के्रडिट कांग्रेस के खाते में जाएगा। वे कांग्रेस को ज्यादा फायदा नहीं पहुंचाना चाहते हैं।

वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भंय की वजह से एक होने का प्रयास कर रहे हैं। धरने में कांग्रेस का समर्थन भारत बंद में एनसीपी, डीएमके, सपा, जेडीएस, बसपा, टीएमसी, आरजेडी, सीपीआई, सीपीएम, एआईडीयूएफ, नेशनल कांफ्रेंस झारखंड मुक्ति मोर्चा, झारखंड विकास मोर्चा, आप, टीडीपी, केरला कांग्रेस, आरएसपी, आईयूएमएल, शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल, राजू शेट्टी की स्वाभिमानी शेतकरी पार्टी और हिंदुस्तान अवाम पार्टी (हम) ने दिया था। लेकिन इनमें से कई दल ऐसे भी हैं जिन्होंने राहुल गांधी के साथ मंच पर नहीं आए हैं।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...