कानपुर: मासूम के शव को कंधे पर लेकर हैलट में भटकता रहा पिता

कानपुर। एक बार फिर जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज प्रशासन की शर्मसार करने वाली करतूत सामने आई है। कॉलेज से संबद्ध हैलट अस्पताल में एक पिता तीन घंटे तक अपनी मासूम बच्ची का शव कंधे पर लेकर भटकता रहा।

उन्नाव जनपद के रहने वाले पीड़ित पिता का आरोप है कि वह बार-बार डॉक्टरों से बच्ची के शव को घर ले जाने की व्यवस्था कराने की गुहार लगाता रहा पर किसी भी जिम्मेदार ने उनकी बात सुनना तो दूर उनकी तरफ ध्यान तक नहीं दिया, जिसने सुना भी उसने अनसुना करते हुए बच्ची के शव को घर तक भिजवाने की कोई भी व्यवस्था नहीं की । बताया जा रहा है बाद में कुछ लोगों ने चंदा कर उन्हें पैसे दिए जिससे गरीब पिता अपनी बच्ची का शव घर ले जा सका।

जब इस विषय पर हैलेट अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. एन त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमारे पास शव भेजने की कोई व्यवस्था नहीं है। डॉक्टर त्रिपाठी ने अपनी सफाई देते हुए पूरे मामले से पल्ला झाड़ लिया और कहा कि इसके लिए प्रस्ताव बना कर करके कॉलेज के प्राचार्य को भेजा है ।जबकि साफ तौर पर निर्देश है कि सरकारी अस्पताल में इलाज के दौरान यदि किसी की मृत्यु होती है तो शव को सरकारी वाहन से परिजन ले जाएंगे।

90 करोड़ के सालाना बजट वाले कानपुर के इस मेडिकल कॉलेज के पास शव ले जाने के लिए कोई वाहन न होना मेडिकल कॉलेज और हैलट अस्पताल के जिम्मेदारों को सवालों के घेरे में खड़ा करता है ।

इससे पहले पहले भी ऐसे तामम मामले हैलट अस्पताल में सामने आ चुके हैं, जिन मामलों ने सरकारी दावों के साथ-साथ डॉक्टरों के अमानवीय चेहरों को सामने ला दिया हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...