आइडिया: लीजिए साहब, अब एक कप चाय की भी होम डिलीवरी

0
70

दुर्ग छत्तीसगढ़। अभी तक आपने मोबाइल के जरिये पिज्जा और बर्गर की होम डिलीवरी तो सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में चाय की होम डिलीवरी हो रही है।

क्षेत्र के एक युवक ने इस अनोखे बिजनेस फंडे को अपनाकर दर्जनभर युवाओं को रोजगार दे दिया है।

मोबाइल पर आर्डर दो और कुछ ही मिनट में घर से लेकर खेतों तक केतली में गर्म चाय लेकर डिलीवरी मैन हाजिर। कीमत भी महज पांच रुपये, कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं। इस बिजनेस से कई युवाओं को रोजगार भी मिल रहा है। दुर्ग जिला मुख्यालय से करीब 40 किलोमीटर दूर जनपद पंचायत पाटन के सामने वर्मा टी स्टॉल व कॉफी सेंटर है।

पाटन क्षेत्र के लोगों की जुबान पर इस दुकान का नाम और मोबाइल फोन पर यहां का नंबर सेव है। नगर के तीन से पांच किलोमीटर के दायरे में लोगों को घर से लेकर खेत तक सिर्फ एक फोन पर चाय मिल जाती है।

चाय की होम डिलीवरी के लिए बाकायदा दर्जनभर कर्मचारी रखे गए हैं। डिलीवरी भी पिज्जा-बर्गर की तरह बाइक पर होती है।

इस टी स्टॉल के संचालक संजय वर्मा और संजू वर्मा बताते हैं कि सुबह सात बजे चाय बनाना शुरू कर देते हैं और शाम सात बजे तक आर्डर लेते हैं।

पाटन ब्लाक मुख्यालय से लगे ग्राम खोरपा, अखरा, अटारी, देमार, पंदर, सिकोला, नवागांव, खम्हरिया, बठेना व चंगोरी तक चाय की डिलीवरी की जाती है। ये सभी गांव टी स्टॉल से चतुर्दिक तीन से पांच किलोमीटर की दूरी पर हैं।

ज्यादा चाय का आर्डर हो तो 10 से 12 किलोमीटर दूर से आया आर्डर भी स्वीकार किया जाता है। पाटन में इस होम डिलीवरी चाय की चर्चा इस्पात नगरी भिलाई व दुर्ग तक होने लगी है।

उधार के डेढ़ सौ से शुरू किया था धंधा :

संजू वर्मा बताते हैं कि 1987 में पिता वीरेंद्र वर्मा ने 150 रुपये उधार लेकर चाय की यह दुकान शुरू की थी। सन 2015 तक इसी चाय की दुकान के सहारे परिवार का भरण-पोषण होता था। सन 2015 में बड़े भाई के निधन और पिताजी के गिरते स्वास्थ्य ने चिंता में डाल दिया।

ऐसे में दुकान के संचालन की जिम्मेदारी हम दोनों ने अपने कंधों पर ले ली। संजू ने बताया कि ऑनलाइन शापिंग के बारे में जब पता चला कि हम घर बैठे ही सामान की खरीदारी कर सकते हैं तभी मैंने मन बना लिया कि जब फोन से सामान की डिलीवरी हो सकती है तो चाय की क्यों नहीं।

संजू ने बताया कि चाय की होम डिलीवरी शुरू करने से महज तीन वषरें में ही परिवार की आर्थिक स्थिति में काफी सुधार आ गया है। पाटन में खुद का घर, व्यावसायिक कांप्लेक्स सहित दो एकड़ कृषि भूमि चाय के इस बिजनेस से ही हासिल हो चुकी है। इतना ही नहीं, बेरोजगार युवकों को रोजगार भी दे रहे हैं।

300 से पहुंचे 2500 कप तक :

संजू बताते हैं कि पहले इस टी स्टॉल से प्रतिदिन औसतन 300 कप तक चाय बिकती थी। अब, फोन से ऑर्डर लेने व होम डिलीवरी शुरू होने के बाद यह संख्या बढ़कर प्रतिदिन औसतन 2500 कप तक पहुंच गई है। कॉफी कप की संख्या इससे अलग है। एक व्यक्ति दिनभर सिर्फ फोन पर चाय का आर्डर लेता है, बाकी दर्जनभर लोग डिलीवरी करते हैं। पांच से सात किलोमीटर दूर के खेतों तक भी चाय पहुंचाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...