क्रोएशिया ने डेनमार्क को किया बाहर, अब होगी रूस से भिड़ंत

मास्को। फीफा विश्व कप 2018 के नॉक आउट दौरे के दूसरे दिन खेले गए दूसरे मुकाबले का परिणाम भी पेनल्टी शूट आउट के जरिए निकला।

मैच में दोनों टीमों ने पहले पांच मिनट में 1-1 गोल किया लेकिन इसके बाद

एक्सट्रा टाइम तक दोनों टीमों कोई गोल नहीं कर सकीं। क्रोएशिया के कप्तान

लुका मॉडरिच ने 117 वें मिनट में पेनल्टी के जरिए जीत हासिल करने का

मौका गंवा दिया। लेकिन इसके बाद मैच पेनल्टी शूट ऑउट तक पहुंच गया।

जहां दोनों टीमों को गोलकीपरों ने शानदार खेल दिखाया। लेकिन डेनमार्क के

गोलकीपर शुमाइकल आखिरी पेनल्टी किक को नहीं रोक सके और डेनमार्क का

सफर अंतिम 16 में ही खत्म हो गया। पेनल्टी शूट ऑउट में 3-2 से जीत

हासिल कर क्रोएशिया ने क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया जहां उसका मुकाबला

मेजबान रूस के साथ होगा।

मैच के पहले ही मिनट में ही डेनमार्क ने गोल करके 1-0 की बढ़त हासिल कर

ली। 58वें सेकेंड में ही मथिआस जॉरगनसन ने अपनी टीम के लिए मैच में

पहला गोल जड़ दिया। उनका शॉट क्रोएशिया के गोलकीपर के पैर पर जाकर

लगा। इसके बाद गेंद सीधे गोलपोस्ट में घुस गई। इस तरह बेहद नाटकीय और

रोचक अंदाज में मैच की शुरुआत हुई। लेकिन दूसरी तरफ क्रोएशिया की टीम

शुरुआती मिनट में पछड़ने के बाद हतोत्साहित नहीं हुई। तीन मिनट बाद टीम

ने जवाबी हमला किया। मारियो मंजुकिच ने चौथे मिनट में गोल कर अपनी

टीम की वापसी करा दी।

10वें मिनट में क्रोएशिया को अपनी बढ़त को दुगना करने का मौका मिला

लेकिन ईवान पर्सिक इसे गोल में तब्दील नहीं कर सके। गेंद डेनमार्क के डिफेंडर

के सिर पर लगकर गोल पोस्ट के ऊपर से निकल गई। इसके बाद दोनों टीमों ने

गोल कर बढ़त हासिल करने की कई कोशिशें कीं लेकिन वो सफल नहीं हुई।

पहले हाफ में क्रोएशिया ने 55 प्रतिशत समय गेंद अपने पास रखी और गोल

करने की 9 बार कोशिश की जिसमें से तीन लक्ष्य पर थे। वहीं डेनमार्क ने 5

बार गोल करने की कोशिश की और केवल 2 बार लक्ष्य पर निशाना साधने में

सफल रहे। लेकिन दोनों ही टीमें केवल 1-1 गोल पहले हाफ में करने में सफल

हुईं।

लुका मॉडरिच ने गंवाया मौका

114वें मिनट में आंटे रैबिक अकेले गेंद को आगे लेकर बढ़ रहे थे मथिआस

जॉरगनसन ने डी के अंदर उन्हें धक्का देकर गिरा दिया। ऐसे में रेफरी ने इसे

फाउल करार देते हुए क्रोएशिया को पेनल्टी का मौका दिया। जिसपर किक

लगाने कप्तान लुका मॉडरिच आए। लेकिन डेनमार्क के गोलकीपर शुमाइकल ने

शानदार तरीके से सेव कर अंतिम समय में अपनी टीम को पिछड़ने से बचा

लिया। इस तरह कप्तान लुका मॉडरिच ने अपनी टीम के क्वार्टर फाइनल में

पहुंचने का सबसे करीबी मौका गंवा दिया।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...