खाने से है प्यार तो घूम आएं लखनऊ के रोटी बाजार, 100 से ज्यादा डिश रोटियों की …

लखनऊ|

लखनऊ के लिए इमेज परिणाम

जिस तरह दिल्ली के चांदनी चौक के परांठे मशहूर है, उसी तरह लखनऊ का रोटी बाजार भी लखनऊ घूमने आने वाले लोगों के बीच खासा मशहूर है.
अगर आप भी कभी लखनऊ की ट्रिप प्लान करें,

तो यहां के रोटी बाजार के जायकों को चखना न भूलें. अकबरी गेट से नक्खास चौकी के पीछे तक यह बाजार है, जहां फुटकर और सैकड़े के हिसाब से शीरमाल, नान, खमीरी रोटी, रूमाली रोटी, कुल्चा, लच्छा परांठा, धनिया रोटी और तंदूरी परांठा जैसी कई अन्य तरह की रोटियां मिलती हैं.

चखना न भूलें शीरमाल की रोटियां 

रोटियों में शीरमाल की डिमांड सबसे ज्यादा रहती है. ऑरेंज कलर की शीरमाल मैदे, दूध व घी से बनती हैं,

तंदूर में पकाने के बाद इन पर खुशबू के लिए घी लगाया जाता है.

शीरमाल का वजन के हिसाब से रेट तय होता है. यानी 110 ग्राम से 200 ग्राम की शीरमाल 10 से 15 रूपये प्रति पीस बिकती है.

इस गली के बाहर भी कई होटल में स्पेशल शीरमाल तैयार की जाती है. इन्हें देसी घी व केसर में तैयार किया जाता है. शीरमाल ‘कबाब’ और कोरमे के साथ खाना लोग पसंद करते हैं.

बाकरखानी रोटी की त्योहारों पर सबसे ज्यादा होती है मांग 

लखनऊ के शाही खाने में गिनी जाने वाली बाकरखानी रोटी अमीरों के दस्तरखान से बाजार में आई है.

इसे बनाने में मेवे और मलाई का यूज किया जाता है. चाय के साथ लोग इसे खाना पसंद करते हैं.

बाकरखानी रोटी की डिमांड पहले के तुलना में कम जरूर हुई है,

लेकिन अब भी पुराने लखनऊ में बाकरखानी की मांग है.

रोटी बाजार

कैसे पहुंचे

आप लखनऊ रेलवे स्टेशन से किसी बस या टैक्सी से यहां पहुंच सकते हैं.

घूमने का बेस्ट टाइम

आप यहां कभी भी जा सकते हैं, लेकिन त्यौहारों के मौसम में यहां की एक अलग ही रौनक देखने को मिलती है.

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here