गौरव यात्रा की समीक्षा कर बनाई जाएगी आगामी चुनाव की रणनीति

0
34

जयपुर। प्रदेश के छह संभागों के गांव-ढाणियों और शहरों को एप्रोच कर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की ओर से सत्ता वापसी को लेकर निकाली गई राजस्थान गौरव यात्रा शनिवार को अजमेर संभाग के भीलवाड़ा जिले के सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र स्थित गंगापुर में पूर्ण हुई। प्रदेश भाजपा की ओर से अब संगठनात्मक स्तर पर इस समूची यात्रा की समीक्षा किए जाने के संकेत दिए जा रहे हैं।

इसे लेकर बाकायदा पार्टी संगठन की जल्दी ही एक बड़ी बैठक भी आयोजित की जाएगी। इसमें सत्ता एवं संगठन दोनों ही स्तर पर पार्टी के कामकाज पर मंथन कर आगामी चुनाव की रणनीति बनाई जाएगी। इसके अलावा प्रदेश भाजपा का पूरा फोकस गौरव यात्रा के समापन अवसर पर अजमेर में 6 अक्टूबर को प्रस्तावित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जनसभा की तैयारियों पर रहेगा।

इस समूची यात्रा के रूट चार्ट में भरतपुर संभाग का कार्यक्रम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजयपेयी के निधन के कारण रद्द कर दिया गया और अब इस संभाग में विधानसभा चुनाव के नजदीकी दिनों में ही प्रचार के लिहाज से मुख्यमंत्री का कार्यक्रम बनाया जाएगा।

अभाव-अभियोग के निस्तारण की जानी जाएगी प्रगति
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की राजस्थान गौरव यात्रा के दौरान आमजन की ओर से अपने क्षेत्र की समस्याओं को लेकर दिए गए ज्ञापन और मांगपत्र के आधार पर उनको राहत मिली या नहीं इसे लेकर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों और संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी प्रगति जानने की जिम्मेदारी दी गई है।

राजस्थान गौरव यात्रा के हर स्वागत एवं जनसभा स्थल पर लोगों ने मुख्यमंत्री को अपने क्षेत्र की समस्याओं से जुड़े मांगपत्र दिए थे। अब राज्य सरकार संबंधित जिला प्रशासन की ओर से इन लोगों की समस्याओं के समाधान के प्रति पूरी गंभीरता दिखा रही है। इसके अलावा यात्रा के दौरान प्रशासनिक स्तर पर अलग-अलग जिलों के बड़े मुद्दों एवं लंबित समस्याओं की भी रिपोर्ट बनाई जा रही है ताकि इनका आचार संहिता लगने से पहले निस्तारण किया जा सके।

जिला संगठनों में किए जा सकते हैं छोटे-मोटे बदलाव
राजस्थान गौरव यात्रा के बाद अलग-अलग जिलों में भाजपा के संगठनात्मक ढांचे में छोटे-मोटे बदलाव किए जा सकते हैं। इस तरह के बदलाव की कसौटी यात्रा के दौरान मौजूदा संगठन पदाधिकारियों की ओर से दी गई परफोरमेंस रहेगी। गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से प्रदेश के कई जिलों में भाजपा के संगठनात्मक ढांचे में बदलाव के संकेत दिए जा रहे थे लेकिन मुख्यमंत्री सहित पार्टी प्रदेश अध्यक्ष के गौरव यात्रा में व्यस्त होने से फेरबदल एक बारगी टाल दिया गया था। यात्रा के बाद अब जिला संगठनों की महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे निष्क्रिय पदाधिकारियों की छुट्टी भी हो सकती है यानी इनके दायित्व में बदलाव किया जा सकता है।

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...