चार साल की मासूम से दुष्कर्म व हत्या, कोर्ट ने दी फांसी की सजा

इंदौर. धार जिले के मनावर में पांच महीने पहले चार साल की मासूम से दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में कोर्ट ने गुरुवार को फैसला सुनाया। 19 साल के दुष्कर्मी करण उर्फ फतिया को फांसी की सजा सुनाते हुए जज अकबर शेख ने फैसले में लिखा, बेटियां खुदा की रहमत है और उन्हें क्षत-विक्षत लाश के रूप में बदलने का अपराधी उदारता के लायक नहीं। मनावर की एडिश्नल सेशन कोर्ट ने 153 दिन में 20 गवाहों, और डीएनए एक्सपर्ट के बयान के आधार पर फैसला सुनाया। मध्य प्रदेश में बच्ची से दुष्कर्म के मामले में एक सप्ताह के भीतर ये दूसरा फैसला है जिसमें आरोपी को फांसी की सजा सुनाई गई है।

अदालत में बचाव पक्ष के वकील ने अपनी दलील में कहा कि आरोपी अभी नवयुवक है और उसमें सुधार की संभावना है। इसलिए सजा में नरमी बरतते हुए फांसी के बजाय उम्रकैद दी जाए।
इस पर लोक अभियोजक शरद कुमार पुरोहित ने कहा आरोपी का कृत्य जघन्यतम अपराध की श्रेणी में आता है। पीड़िता की आयु 4 वर्ष थी, इसलिए फांसी की सजा दी जाए, ताकि समाज में इस तरह की घटनाएं दोबारा ना हों।
न्यायालय ने अंतिम बार आरोपी से सवाल किया कि तुमने बच्ची के साथ ऐसा क्यों किया तो उसने कहा मैंने कुछ नहीं किया।
अदालत ने लड़के को फांसी सुनाने के साथ ही उस पर अलग-अलग धाराओं में कुल 17 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया है।

अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश अकबर खान ने 50 पेज के फैसले में टिप्पणी करते हुए लिखा कि बेटियां खुदा की रहमत है और उन्हें क्षत-विक्षत लाश के रूप में बदलने का अपराधी उदारता के लायक नहीं। सामाजिक दृष्टि से व कानूनी दृष्टि से आरोपी द्वारा किया गया कृत्य क्षम्य नहीं है और विरले से विरलतम मामले की श्रेणी में आता है। अपराध की गंभीरता को देखते हुए मृत्युदंड दिए जाने से ही न्याय की पूर्ति संभव है।

घटना पिछले साल 15 दिसंबर की है। हत्या का आरोपी करण बच्ची को घर से अगवा कर अपने साथ ले गया। यहां उसने झाड़ियों में पहले बच्ची के साथ दुष्कर्म किया फिर मामला खुल जाने के डर से उसका सिर पत्थर से कुचल दिया।
अगले दिन घटनास्थल पर कुछ महिलाओं ने बच्ची की लाश बरामद की। परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी।

आरोपी घटना को अंजाम देने के बाद अपनी चप्पल घटनास्थल पर छोड़ कर ही भाग गया था, हत्या के बाद आरोपी बच्ची को मौके पर ही छोड़कर भाग आयाा था। सुबह नदी से 100 मीटर दूर झाड़ियों के बीच एक गड्ढे में मासूम की जींस और खून से सने कपड़े और खून लगा पत्थर पड़ा था।

जिसके बाद पुलिस ने इसलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ धारा 302, 376 और 363 और पॉक्सो के तहत मामला दर्ज कर लिया।

लाश के पास ही एक चप्पल भी पड़ी थी। चप्पल देखते ही परिजनों ने कहा कि आरोपी करण कुछ दिन पहले यह चप्पल लेकर आया था। उसने चप्पल सबको दिखाया था।
Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...