चिकित्सा मंत्री ने शुरू की राज्य स्तनपान नीति

0
71

जयपुर। पोषण अभियान-2022 के तहत मंगलवार को राज्य स्तनपान नीति का शुभारंभ चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने किया। ये नीति शिशु के जन्म के एक घंटे में स्तनपान और छह माह तक केवल स्तनपान करवाने के लिए परिवार, समुदाय और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े समस्त कार्यकर्ताओं के लिए मार्ग-दर्शक के तौर पर होगी।

चिकित्सा मंत्री सराफ ने स्तनपान करवाने वाली सभी माताओं, परिवारजनों और स्वास्थ्यकार्मिकों से लागू राज्य स्तनपान नीति में बताये गये तरीकों के अनुसार आचरण कर अपना योगदान करने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि नेशनल फेमिली हेल्थ सर्वे-4 के मुताबिक राजस्थान में जन्म के एक घंटे के भीतर मां के स्तनपान करवाने का प्रतिशत मात्र 28.4 है। वहीं, जन्म के पहले छह माह तक केवल मात्र स्तनपान का प्रतिशत महज 58.2 है। उनके मुताबिक ऐसे में राज्य स्तनपान नीति लागू करना शिशु स्वास्थ्य के प्रति अनुकूल सिद्ध होगा।
चिकित्सा मंत्री सराफ ने हर बच्चे को जन्म के एक घंटे के भीतर मां का दूध और छह माह तक केवल स्तनपान के संकल्प को आगे बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया। इस दौरान विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव वीनू गुप्ता और स्वास्थ्य सचिव नवीन जैन भी मौजूद रहे।

इस दौरान बताया गया कि विभाग की ओर से समुदायिक केंद्रों और स्वास्थ्य केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं और माताओं को परामर्श के साथ-साथ स्तनपान में सहयोग प्रदान करने के उद्देश्य से ‘मां’ कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। साथ ही अधिक प्रसव वाले चिकित्सा संस्थानों में अमृत कक्ष की भी स्थापना की गयी है। जिनमें शिशु को स्तनपान करवाया जाता है। मां का दूध बच्चों में गंभीर बीमारियां से सुरक्षा प्रदान करने के साथ ही शिशु के सम्पूर्ण विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

  • 4
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...