बुलेट प्रूफ जैकेट को भी भेद देती है पाकिस्तानी बंदूक की ‘चीनी बुलेट’

0
57
india-army-bullet-proof-jacket

नई दिल्ली। विगत 31 दिसंबर की देर रात जैश-ए-मोहमद के आतंकियों ने सीआरपीएफ कैंप पर हमला किया था जिसमें 5 जवान शहीद हुए थे। आप को यह बात जानकार हैरानी होगी कि हमले के दौरान दो जवानों ने बुलेट प्रूफ जैकेट पहन रखी थी, बावजूद इसके आतंकियों की गोली सैनिकों के जैकेट को भेदकर उनके सीने में जा लगी। यह अलग बात है कि तीनों आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया।

बूलेट प्रूफ से ताकतवर आतंकियों की यह गोली
बुलेट प्रूफ जैकेट भेदकर दो जवानों के सीने में लगी गोली के बाद सुरक्षा एजेंसियों तथा गृह मंत्रालय तक में अफरा—तफरा मच गई।
जब इस बुलेट प्रूफ जैकेट की जांच की गई तो पता चला कि आतंकियों ने बुलेट प्रूफ जैकेट को भेदने वाली खास किस्म की गोलियों का इस्तेमाल किया था।
गृह मंत्रालय ने जांच के बाद खुलासा किया है कि आतंकियों ने चीनी बुलेट का इस्तेमाल किया था, जो तांबे के बजाय स्टील की बनी हुई थी। स्टील की इन गोलियों को चीन आतंकियों को सप्लाई करता है।

बुलेट में अब तांबे की जगह स्टील
जांच के बाद पता चला है कि एके-47 राइफल में इस्तेमाल की जाने वाली गोली का अगला हिस्सा अब तक तांबे का बना होता था। लेकिन चीनी स्टील वाली ये नई बुलेट पहली बार कश्मीर में जवानों को निशाना बनाने के लिए इस्तेमाल हुई। चूकि बुलेट के अगले भाग पर स्टील लगा था ऐसे में इंडियन बुलेट प्रूफ जैकेट कोई काम नहीं आया। आतंकियों के पास से ऐसे हथियार मिले, जिन्हें अमेरिका ने पाकिस्तानी सेना को सप्लाई किए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here