छह स्थानों पर खुलता है एसएमएस अस्पताल का नवनिर्मित अंडरपास

जहां से भी आना चाहें , वहीं से आ और जा सकते हैं अंडरपरपास से मरीज और परिजन
महानगर संवाददाता
जयपुर। एसएमएस अस्पताल का नवनिर्मित अंडरपास छह स्थानों पर खुलता है। जिसमें तीन स्थान एसएमएस अस्पताल की तरफ और तीन ट्रोमा सेंटर की ओर। यानि अंडरपास में मरीज जहां से भी आना और जाना चाहें, आराम से आ सकता है। इसके साथ ही अंडरपास के अंदर 22 दुकानें भी बनाई गई हैं जिसमें वेंटीलेशन और इलेक्ट्रिसिटी का पूरा ध्यान रखा गया है। ताकि सबसे ज्यादा इसका उपयोग हो और सबसे बड़ी बात यह है कि नवनिर्मित अंडरपास की दुकानों के सामने तीन- तीन फीट की जगह छोड़ी गई है ताकि अंडरपास से गुजरने के दौरान मरीज और परिजन आसानी से दुकान से खरीददारी कर सकें। एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्रशासन के अनुसार जिस तरह नवनिर्मित अंडरपास का डिजाइन किया गया है उसमें राजस्थान में यह सबसे अच्छा अंडरपास साबित होगा। जिसमें कि मरीजों और परिजनों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखा गया है। गौरतलब है कि अंडरपास नहीं होने के कारण पहले मरीजों को एसएमएस अस्पताल से लेकर ट्रोमा सेंटर तक जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था। बीच में भारी ट्रेफिक के कारण मरीजों और परिजनों को घंटों इंतजार भी करना पड़ता था। जिसे देखते हुए मरीजों की सुविधा के लिए एसएमएस अस्पताल में नए अंडरपास का निर्माण करवाया गया है।

कब होगा उद्घाटन अभी
यह तय नहीं
गौरतलब है कि चिकित्सा मंत्री कालीचरण सराफ ने कुछ समय पहले ही एसएमएस अस्पताल दौरा कर अस्पताल सहित नवनिर्मित अंडरपास की व्यवस्थाएं देखीं थी। साथ ही यह भी जानकारी दी थी कि नवनिर्मित अंडरपास का शुभारंभ 2 जुलाई को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे करेंगी। लेकिन 2 जुलाई बीत जाने के बाद भी अंडरपास का शुभारंभ नहीं हो पाया है और इस नवनिर्मित अंडरपास का शुभारंभ कब तक हो पाएगा यह भी अभी तय नहीं है। ऐसे में नवनिर्मित अंडरपास से गुजरने के लिए मरीजों और परिजनों को अभी कुछ दिन का इंतजार और करना पड़ेगा ।
मरीजों की सुविधाओं का रखा पूरा ध्यान
एसएमएस अस्पताल के नवनिर्मित अंडरपास में मरीजों की सुविधाओं का बेहतर ध्यान रखा गया है। खास बात तो यह है कि छह स्थानों पर खुलता है। मरीज जहां से आना-जाना चाहे आ-जा सकता है।
– डॉ. यू. एस. अग्रवाल
प्राचार्य, एसएमएस मेडिकल कॉलेज, जयपुर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...