जब अदालत में हाजिर हुए भगवान राम और लक्ष्मण

0
32
छतरपुर। राम मंदिर विवाद को लेकर एक तरफ मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो दूसरी ओर छतरपुर में भगवान राम को लेकर एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है. जहां ओ माई गॉड फिल्म की तर्ज पर भगवान राम को जज साहब ने कोर्ट में हाजिर होने का हुक्म सुना दिया. जिसके बाद मंदिर के पुजारी भगवान राम-लक्ष्मण की मूर्ति लेकर अदालत में हाजिर हुए।
मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले के लवकुशनगर में उस समय एक आश्चर्य माहौल पैदा हो गया जब मंदिर के पुजारी भगवान श्रीराम और लक्ष्मण की मूर्ति पेशी करवाने के लिए अदालत लेकर गए. अभी तक तो अदालतों में भगवान राम के मंदिरों को लेकर अदालत में पेशी होती थी या उनके भक्तों को ही अदालत में भगवान राम के लिए चक्कर लगाने पड़ते थे. लेकिन मंगलवार को छतरपुर के लवकुश नगर में ऐसा वाक्य देखने को मिला जब भगवान श्री राम स्वयं अदालत में पेशी करने के लिए हाजिर होना पड़ा।

दरअसल लवकुशनगर न्यायालय में न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी अश्वनी सिंह के न्यायालय में भगवान राम एवं लक्ष्मण की मूर्तियां पेशी के लिए अदालत में प्रस्तुत की गई. भगवान राम एवं लक्ष्मण की ओर से न्यायालय के समक्ष अधिवक्ता देवराज निगम ने उपस्थित होकर पेशी करवाई।

अधिवक्ता देवराज निगम ने बताया कि लवकुशनगर अनुविभाग अंतर्गत थाना गौरिहार के ग्राम घटरा में स्थित रामजानकी मंदिर में वर्ष 2016 में चोरी होने के कारण उपरोक्त मंदिर में विराजमान भगवान राम एवं लक्ष्मण की मूर्तियां एवं चरण चौकी चोरों द्वारा चुरा ली गई थी. जिसके संबंध में थाना गौरिहार में मामला दर्ज किया गया था और मूर्तियों को पुजारी बसंत लाल पाठक को सुपुर्द कर दिया गया था।

मूर्तियों के मिलने के बाद ग्रामवासियों और पुजारियों को मिल गई  तब उन्होंने हर्षोल्लास के साथ  और जुलूस निकालते हुए फिर से भगवान राम और लक्ष्मण की मूर्ति को मंदिर में स्थापित किया. अधिवक्ता देवराज निगम बताया कि जज ने पिछली पेशी में मूर्तियों को अदालत में पेश करने का आदेश दिया था जिसके वजह से इस बार मूर्तियों को न्यायालय लाया गया।

यह पूरे देश में पहला मामला है जब कहीं भगवान राम और लक्ष्मण की मूर्तियों को अदालत में पेश किया गया है. इस तरीके का मामला ‘ओ माय गॉड’ नामक मूवी में भी देखने को मिला था. जब अदालत द्वारा भगवान को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...