डेंगू पीड़ित गर्भवती की थीं जीरो प्लेटलेट्स, डॉक्टरों ने सिजेरियन कर मां-बेटी को बचाया

0
78

जोधपुर:  जालोर से डिलेवरी के लिए आई गर्भवती को डेंगू था। जांच कराने पर पता चला कि उसके प्लेटलेट्स शून्य हैं। मरीज को ताने आ रही थी सांस लेने में भी परेशानी हो रही थी। उसके इलाज की चुनौती को उम्मेद अस्पताल के गायनी, एनेस्थिसिया और पीडियाट्रिक विभागों के डॉक्टरों ने स्वीकार किया। डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर लिया और सफल सिजेरियन किया। महिला ने बेटी को जन्म दिया।

दो ट्रेलर टकराए, डीजल टैंक में विस्फोट से वाहनों में आग, तीन बाइक सवारों की मौत

मरीज तीन दिन तक वेंटिलेटर पर रहीं और 8 अक्टूबर को मां-बेटी पूरी तरह स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुईं। अस्पताल में गायनी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. रंजना देसाई ने बताया 35 वर्षीय मरीज जालोर से 29 सितंबर रात करीब 12.30 बजे उम्मेद अस्पताल पहुंची थीं। वह नौ महीने के गर्भ से थी। उसके मुंह और पेशाब से खून आ रहा था। शरीर में खून के थक्के जमे हुए थे। मरीज की खून की जांच आदि के लिए सैंपल भेजे। जांच में डेंगू पॉजिटिव और कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी) की रिपोर्ट में मरीज की प्लेटलेट शून्य आई। प्लेटलेट शून्य थीं इसलिए पीबीएफ जांच (माइक्रोस्कोप से स्लाइड के जरिए खून की जांच) कराई। इसमें भी पैथोलॉजिस्ट ने प्लेटलेट ना के बराबर बताया। महिला की यह चौथी डिलेवरी थी और उसे डेंगू के साथ एन्ट्रीपार्टम इक्लैम्प्सिया था इसलिए डिलेवरी के समय खून के अधिक रिसाव का खतरा ज्यादा था।

नेक्सा शो में जलवे बिखेरेंगी सोनाक्षी

डॉ. देसाई ने बताया शुरुआती सात दिन में करीब 66 आरडीपी और 24 एफपीपी के अलावा एक यूनिट ब्लड भी चढ़ाया। उसे भर्ती के समय सांस लेने में परेशानी थीं, इसलिए वेंटिलेटर पर लिया और सिजेरियन किया गया। इसके बाद 2 किलो 700 ग्राम की जीवित बच्ची को नर्सरी में भर्ती कराया गया।

सिजेरियन होने के बाद भी मरीज तीन दिन तक वेंटिलेटर पर रहीं। धीरे-धीरे महिला को वेंटिलेटर से हटाया गया। पूर्ण स्वस्थ होने के बाद आठ अक्टूबर को बच्ची और मां दोनों को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज किया गया। डिस्चार्ज के समय मरीज के करीब 48 हजार प्लेटलेट्स हो गए थे। रक्तस्त्राव होने पर प्लेटलेट्स खून को बहने से रोकते हैं। इसकी नॉर्मल वैल्यू 1 लाख से 1.5 लाख के करीब है लेकिन कई लोगों में 3.5 लाख तक भी मिली। प्लेटलेट्स शरीर में बनते हैं और घटते-बढ़ते रहते हैं पर वैल्यू स्थिर रहना जरूरी है। डॉ. देसाई ने बताया डिलेवरी के समय एक लाख के आसपास प्लेटलेट्स होने चाहिए।

कपिल और सुनील दोनों का इस शो होगा कमबैक

————————————————————————-

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...