थाई गुफा से बचाए लड़कों ने कहा…चमत्कार के क्षण

थाईलैंड। उत्तरी थाईलैंड में थाम लुआंग गुफा से बचाए गए 12 लड़के पहली बार मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने बताया कि जब गोताखोरों ने उन्हें खोजा तो वे चमत्कार के क्षण थे। जूनियर फुटबॉल टीम का एकमात्र सदस्य अदुल सैम-ऑन जो अंग्रेजी बोलता है। उसने दो ब्रिटिश डाइवर्स के सामने सिर्फ हैलो कहा।

फुटबॉल किट में आए थे मंच पर

दो सप्ताह तक गुफा में रहे इन 12 फुटबॉल खिलाडिय़ों को बुधवार अस्पताल से छुट्टी मिल गई।

घर जाने से पहले चियांग राय में एक संवाददाता सम्मेलन ने इन्होंने शिरकत की।

इन्होंने थाम लुआंग गुफा में अपनी परीक्षा की घड़ी के बारे में सभी को बताया।

संवाददाता सम्मेलन में सभी लड़के थाई नेवी सील के सदस्यों के साथ आए।

वे मंच पर फुटबॉल किट पहनकर आए।

थाई नेवी सील के इन सदस्यों ने इन बच्चों को बचाने में अहम भूमिका निभाई थी।

इससे बाद नहीं होगी मीडिया ट्रायल

इस दौरान एक लड़के ने बताया कि वे गुफा के अंदर पानी से घिरे पत्थरों पर कैसे रहे थे।

पानी तो था, लेकिन भोजन नहीं था।

चियांग राय के प्रान्तीय गवर्नर प्रचन प्रत्सुकान ने कहा कि लड़कों का यह आधिकारिक मीडिया साक्षात्कार होगा।

इसके बाद प्रेस के साथ इस मामले में कोई और बात नहीं होगी।

पत्रकारों के सवाल पहले ही देख लिए गए थे, जिससे सुनिश्चित किया जा सके कि

वे लड़कों को ज्यादा परेशान ना कर सकें। क्योंकि, बच्चों की मनोचिकित्सक द्वारा जांच की गई थी।

रहना पड़ेगा बौद्ध भिक्षु जैसे

थोड़े समय के लिए इन लड़कों को बौद्ध भिक्षुओं के रूप में भी नियुक्त किया जाएगा।

थाईलैंड में पुरुषों के लिए परम्परा है कि जिसने दुर्भाग्य का अनुभव किया हो, उसे ऐसा करना पड़ता है।

Read Also:
  • 2
    Shares

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...