दबंग आईपीएस अफसर दिनेश एमएन एक बार फिर सुर्खियों में

0
43
जयपुर।  भाजपा सरकार के समय खान महाघूसकांड को उजागर करने वाले दबंग आईपीएस अफसर दिनेश एमएन एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं. वर्तमान कांग्रेस सरकार ने एक बार फिर उन्हें एसीबी जैसे महत्वपूर्ण विभाग में बड़ी जिम्मेदारी के साथ तैनात कर दिया है. दिनेश एमएन के तबादले को 17 दिन में बदलते हुए गहलोत सरकार ने एसीबी में आईजी के तौर पर नियुक्त किया है. जिसके बाद से प्रदेशभर में हलचल शुरू हो गई है ।
 
राजस्थान के सिंघम माने जाने वाले दिनेश एमएन की पहचान ईमानदार आईपीएस की रही है. उनकी तैनाती जिस जगह भी होती रही है, वहां वे अपनी छाप छोड़कर ही निकले हैं. उनके नाम से बड़े से बड़ा अपराधी कांपते हैं. अभी तक के पुलिस करियर के दौरान दिनेश एमएन ने कई बड़ी उपलब्धियां हासिल कर चुके हैं. भाजपा सरकार के दौरान उन्होंने एसीबी में रहते हुए खान घोटाला उजागर किया था. जिसके बाद ना केवल वे खुद सुर्खियों में आ गए थे, बल्कि प्रदेश की राजनीति में भी तूफान खड़ा हो गया है. इसके बाद उन्हें एसीबी से हटाकर एसओजी में लगाया गया था. साथ ही गैंगेस्टर आनंदपाल को पकड़ने की जिम्मेदारी दी गई थी. चुनाव के बाद सरकार बदलने के बाद जारी हुई पहली तबादला सूची में इन्हें बीकानेर आईजी के पद से हटाकर आईजी इंटेलिजेंस में तैनात कर दिया गया था. जो कि कमतर पोस्ट मानी जाती है।
यहां महज 17 दिन रहने के बाद गहलोत सरकार ने अपना निर्णय बदलते हुए दिनेश एमएन को फिर एसीबी में तैनात कर दिया है. उनके एसीबी में वापसी करने के साथ ही प्रदेशभर के प्रशासनिक हलकों में हलचल पैदा हो गई है. आपको बता दें कि पिछली बार एसीबी में रहते हुए उन्होंने कई भ्रष्ट अधिकारियों पर कार्रवाई की थी. कई बार वे जान पर खेलकर बदमाशों को जेल में पहुंचा चुके हैं. पुलिस विभाग में अपने दबंग अंदाज और काम के कारण ही उन्हें राजस्थान के ‘सिंघम’ के रूप में पहचाना जाता है. पिछले दिनों बहुचर्चित सोहराबुद्दीन-तुलसी एनकाउंटर मामले में सीबीआई स्पेशल कोर्ट से बरी हुए पुलिस अफसरों और जवानों ने ख़ुशी का इज़हार जमकर डांस करके किया था. इनमें आईपीएस अफसर दिनेश एमएन भी शामिल थे।
 
ये प्रमुख उपलब्धियां हैं दिनेश एमएन के नाम
  •  2005 में सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ में सुर्ख़ियों में बने रहे. इस मामले में दिनेश की गिरफ्तारी हुई और उन्हें जेल भेज दिया गया. सोहराबुद्दीन के साथ ही उसकी बीवी कौसर बी और साथी तुलसी प्रजापति जब मुठभेड़ में मारे गए.
  •  दिल्ली-जयपुर राजमार्ग स्थित शाहपुरा सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट भारत भूषण गोयल को साढ़े तीन लाख रूपए के साथ ट्रेप किया.
  • आबकारी इंस्पेक्टर पूजा यादव को शराब की दुकान लगाने वाले अलॉटी से 40 हज़ार रूपए की घूस लेते रंगे हाथ ट्रेप किया. दिनेश की टीम ने पूजा यादव के घर से 5 लाख रूपए बरामद हुए.
  • राजस्थान हाइकोर्ट ने दिनेश एमएन को हिंगोनिया गोशाला में चारा घोटाले की जांच की पड़ताल की जिम्मेदारी सौंपी. यहां से आठ अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया.
  • एसीबी में रहते हुए उन्होंने राजस्थान के सबसे बड़े खान महाघूसकांड का पर्दाफ़ाश करने में अहम् भूमिका निभाई. इसमें प्रमुख सचिव (खदान) अशोक सिंघवी को गिरफ्तार किया गया.
  • सवाई माधोपुर में कुख्यात डकैत राम सिंह गुर्जर को मौत के घाट उतारने में भी दिनेश एमएन का नाम सामने आया था. राम सिंह गुर्जर पर हत्या और अपहरण के दर्जनों मामले दर्ज थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...