दिल्ली में मानव तस्करी रैकेट का खुलासा

दिल्ली में इंदिरा गांधी एयरपोर्ट से 10 किलोमीटर दूर महरौली और साकेत के मैदान गढ़ी इलाके में मानव तस्करी और देह व्यापार के गैर कानूनी धंधे का भांडा फोड़ हुआ है. मैदान गढ़ी के एक बड़े फ्लैट में अवैध तरीके से 19 लड़कियां रखी गईं थी, जिनमें 3 लड़कियां जलपाईगुड़ी और 16 लड़कियां नेपाल की रहने वाली हैं.

दरअसल बनारस पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने दिल्ली में करीब एक हफ्ते से डेरा डाला हुआ था. उनके पास पक्की खबर थी कि मैदान गढ़ी इलाके मे मानव तस्करी गिरोह के कुछ लोग लड़कियों को लेकर छुपे हुए हैं. उन्होंने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के साथ मिलकर बीती रात इस फ्लैट में रेड डाली.

फ्लैट से गिरफ्तार तीन आरोपियों, हिसार का रहने वाला पवन खुराना, काठमांडू का शाहवीन शाह, और गाजीपुर यूपी का रहने वाला राजेन्द्र उर्फ राजन ने 19 लड़कियों को अवैध तरीके से यहां रखा था. इन लड़कियों को बंगाल और नेपाल से दिल्ली लाकर अरब देशों में जॉब का झांसा देकर भेजा जाना था. क्राइम ब्रांच के मुताबिक यह एक संगठित गैंग है जो गैर कानूनी तरीके से लड़कियों को अरब देशों में भेजते थे.
क्राइम ब्रांच के मुताबिक पकड़े गए तीनो आरोपियों के पास से 68 पासपोर्ट बरामद किए गए हैं. जिसमें से सात भारतीय पासपोर्ट हैं, बाकी सभी पासपोर्ट नेपाल के हैं. क्राइम ब्रांच के मुताबिक यह गिरोह करीब 2 साल से दिल्ली, यूपी, हैदराबाद, जयपुर मे सक्रिय है और अब तक करीब 1 हजार से ज्यादा लड़कियों को गैर कानूनी तरीके से अरब देशों जैसे ओमान, कुवैत, दुबई और कई दूसरे ठिकानों पर भेज चुका है.

बनारस क्राइम ब्रांच डीएसपी अभिनव यादव के मुताबिक नेपाल और भारत के दूसरे राज्यों से लाई गई इन लड़कियों को फ्लैट के अलग-अलग कमरों में शिफ्ट के हिसाब रखा जाता था. एक बार में इस फ्लैट में लाई गई लड़कियों को अरब देश भेजने के बाद नई लड़कियों को इस फ्लैट में लाकर शिफ्ट कर दिया जाता था. इस रैकेट से जुड़े लोग फ्लैट से बाहर कम ही निकलते थे. इसलिए खाने-पीने का पूरा इंतजाम फ्लैट के अंदर ही किया गया था. लेकिन दिल्ली पुलिस को इसकी भनक भी नहीं लगी.

यहां से बरामद लड़कियां खुद कबूल रही हैं कि वो नेपाल से यहां आई हैं और उन्हें जॉब के नाम पर कुवैत, दुबई भेजा जा रहा था.

क्राइम ब्रांच के मुताबिक बनारस के शिवपुर थाने में कुछ महीने पहले एक मुकदमा दर्ज किया गया था. यह मुकदमा मानव तस्करी और देह व्यपार अधिनियम के तहत दर्ज कराया गया था. इस मामले में जो आरोपी थे उनकी लोकेशन दिल्ली में मिली और उसके बाद ही यह रेड की गई.

बनारस क्राइम ब्रांच डीएसपी अभिनव यादव ने बताया कि बड़े लेवल पर चल रहे इस रैकेट में कुछ और लोग भी शामिल हैं. रैकेट से जुड़े लोग नेपाल और जलपाईगुड़ी में अपने टारगेट को तलाशते हैं. खासकर गरीब परिवार की लड़कियों को विदेश में नौकरी का झांसा देकर पहले उनका पासपोर्ट बनवाया जाता है फिर दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, यूपी के एयरपोर्ट से अरब देशों मे भेजा जाता था. फिलहाल बरामद सभी 19 लड़कियों को नेपाल एम्बेसी के जरिये वापस उनके घर भेजा जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...