दिसंबर 2019 तक साफ हो जाएगी गंगा: गडकरी

गंगा की सफाई को लेकर बार-बार उठ रहे सवालों के बीच केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर मीडिया के सामने गंगा सफाई को लेकर उनकी आगे की पूरी रणनीति और योजना बताई. गडकरी ने दावा किया कि अगले साल दिसंबर तक गंगा पूरी तरह से साफ हो जाएगी.

फण्ड जुटाने के लिए सैलरी देने का आग्रह

गंगा की सफाई के लिए फंड जुटाने के लिए गडकरी ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मंत्री, सांसदों और विधायकों से 1 महीने की सैलरी देने का आग्रह भी किया है. ताकि स्वच्छ गंगा फंड में जमा राशि के बढ़ने से गंगा सफाई में योगदान हो सके.

गडकरी का कहना कि मार्च 19 तक 70 से 80 फ़ीसदी तक गंगा साफ हो जाएगी और पूरी तरह से गंगा साफ होने में दिसंबर 19 तक का समय लगेगा. गडकरी का दावा है कि गंगा की सफाई के लिए उनका मंत्रालय पूरी तरीके से लगा है और तेजी से गंगा की सफाई का जो अभियान है उसमें आगे प्रोग्रेस हो रही है. इसीलिए उन्होंने पूरी गंगा साफ करने के लिए दिसंबर 19 तक का समय दिया है. वह दिसंबर 19 तक गंगा को निर्मल और साफ कर देंगे. गडकरी ने बताया कि गंगा के लिए अब तक अलग अलग तरह की 195 परियोजनाओं को मंजूरी दी चुकी है. जिन्हें पूरा करने पर लगभग 20 हजार करोड़ रुपए होंगे.

गडकरी का कहना है कि गंगा के पानी को प्रदूषित करने के लिए छोटे बड़े 97 शहर हैं. लेकिन 10 शहर जो गंगा नदी को ज्यादा प्रदूषित करते हैं वह इसके आसपास बसे हुए हैं. इनमें हरिद्वार, कानपुर, इलाहाबाद, वाराणसी, फर्रुखाबाद, पटना, भागलपुर, कोलकाता, हावड़ा और बल्ली हैं.

गडकरी ने बताया

कि केंद्र ने गूगल मानचित्र की मदद से 211 मुख्य नालों की पहचान की है. जो गंगा को प्रदूषित कर रहे हैं. नालों के गंदे पानी को साफ करने के लिए 20 मॉड्यूलर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी स्थापित किए जा रहे हैं. इससे गंगा सफाई स्वच्छ होने में काफी मदद मिलेगी. नितिन गडकरी कुछ महीने पहले लंदन भी गए थे. वहां भी उन्होंने गंगा सफाई को लेकर फंड जुटाने की कोशिश की थी.

Read More:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...