दुष्यंत के सामने चुनाव लड़ सकती हैं उर्मिला भाभी.

0
105
बारां। लोकसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पार्टियों ने प्रत्याशियों के चयन को लेकर अपनी अपनी रणनीति बनाना शुरू कर दिया है. इसके लिए पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के सुझाव भी लिए जा रहे हैं. वहीं राजस्थान की राजनीति में सबसे हॉट सीट मानी जाने वाली बारां-झालावाड़ लोकसभा सीट पर चुनावी समीकरण फिर हॉट बनते हुए नजर आ रहे हैं।
इस सीट पर जहां एक तरफ इस सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र दुष्यंत सिंह का नाम भाजपा की ओर से प्रमुखता से लिया जा रहा है तो वहीं संभावित प्रमुख नामों में कांग्रेस की ओर से राजस्थान सरकार के मंत्री प्रमोद जैन भाया की पत्नी उर्मिला जैन भाभी का नाम भी प्रमुखता से उभर कर सामने आ रहा है. अगर भाजपा कांग्रेस के इन नामों पर मुहर लग जाती है तो यह सीट एक बार फिर वंशवाद और परिवारवाद के नाम रहेगी।
हालांकि सीट पर 1989 से ही वसुंधरा राजे और उनके बाद उनके पुत्र दुष्यंत सिंह का कब्जा रहा है. वहीं कांग्रेस भी इस सीट पर 2009 से एक ही परिवार को मौका दे रही है. हालांकि इस बार प्रत्याशी बदले जाने कें संकेत जरूर मिल रहे थे लेकिन एक बार फिर उर्मिला जैन भाया का नाम प्रमुखता से सामने आ गया है. अगर फिर से दुष्यंत सिंह और कांग्रेस की ओर से उर्मिला जैन को टिकट मिलता है तो यह सीट वंशवाद और परिवारवाद की सीट बनकर रह जाएगी.

1989 से 1999 तक वसुंधरा राजे यहां से पांच बार सांसद रही हैं. भाजपा का गढ़ कही जाने वाली इस सीट पर वसुंधरा राजे ने कांग्रेस के कई पैराशूटर को करारी शिकस्त दी है. राजस्थान की राजनीति में कदम रखने के बाद इस सीट को वसुंधरा राजे के बेटे दुष्यंत सिंह ने उनकी विरासत को कायम किया है. दुष्यंत यहां से लगातार तीन बार जीत चुके हैं।

आम चुनाव 2009 में कांग्रेस ने इस सीट पर मंत्री प्रमोद जैन भाया की पत्नी उर्मिला जैन भाभी को मैदान में उतारा था. इस समय उर्मिला जैन ने दुष्यंत सिंह को चुनाव मैदान में टक्कर भी दी थी और लेकिन यहां उनको थोड़े अंतर से हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद 2013 के विधानसभा चुनाव में अंता सीट से चुनाव हार चुके प्रमोद जैन भाया को दुष्यंत सिंह के सामने 2014 के लोकसभा चुनाव में उतारा गया था लेकिन मोदी लहर के चलते दुष्यंत भारी मतों से जीते।
लेकिन एक बार फिर इस सीट पर लोकसभा चुनाव 2009 जैसा मुकाबला होने की संभावना जताई जा रही है. हालांकि माना यह भी जा रहा है कि वसुंधरा राजे को भाजपा अब केंद्र की राजनीति करवाना चाहती है. ऐसे में संभावना यह भी जताई जा रही है कि वसुंधरा राजे को भी भाजपा आलाकमान टिकट देने के मूड में है. लेकिन वसुंधरा राजे यहां अपने पुत्र को चुनाव लड़ाने के ज्यादा पक्ष में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...