धरती का चक्कर लगाते हुए अंतरिक्ष में पाई डिग्री

पेनसिलवेनिया। अंतरिक्ष यात्री एंड्रयू जे ड्रयू फ्यूस्टेल ने बुधवार को वह अपनी 8वीं स्पेसवॉक कीे। नासा के अंतरिक्ष यात्री एंड्रयू जे ड्रयू फ्यूस्टेल ने पढ़ाई धरती पर की, मगर उन्हें डिग्री अंतरिक्ष में चक्कर लगाते हुए मिली। वहीं से वह यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन समारोह में भी शामिल हुए। दरअसल, एंड्रयू नासा के अंतरिक्षयात्री हैं और उन्हें पर्ड्यू यूनिवर्सिटी ने 11 मई को प्रदान की खास बात यह है कि जिस दिन यूनिवर्सिटी का कनवोकेशन था, उस दिन वह अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) में धरती से 250 मील की ऊंचाई पर चक्कर लगा रहे थे।

स्पेस से कार्यक्रम में शरीक:

एंड्रयू हर घंटे धरती का चक्कर लगाते हुए 17,150 मील की यात्रा तय करते हैं। वह इस समय तीसरे मिशन पर आईएसएस में हैं । आईएसएस पर लगे कैमरे की मदद से एंड्रयू यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन प्रोग्राम में भी शामिल हुए और इसके लिए उन्होंने अपने काम से कुछ देर का ब्रेक भी दिया गया। इस खास कार्यक्रम के दौरान एंड्रयू ने छात्रों को बताया कि इंडियाना स्थित यह संस्थान आठ और नौ के दशक में, जब वह छात्र थे तो उनके लिए बहुत मायने रखता था। पेनसिलवेनिया के लैंकास्टर के 52 वर्षीय अंतरिक्षयात्री ने इस दौरान छात्रों को प्रेरक संदेश दिया। ‘मैं चाहूंगा कि आप सभी को मेरी तरह सितारों के बीच उडऩे का मौका मिले’

अक्तूबर तक वापस आएंगे:

आईएसएस के एक अन्य अंतरिक्षयात्री और पर्ड्यू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र स्कॉट टिंगल ने एंड्रयू को डिग्री प्रदान की। एंड्रयू 80 दिन अंतरिक्ष में बिता चुके हैं और उनके खाते में 7 स्पेसवॉक हैं, जो 48 घंटे 28 मिनट की कुल है। बुधवार को वह अपनी 8वीं स्पेसवॉक कीे और अक्तूबर तक धरती पर वापस लौटेंगे। पढ़ाई धरती पर की, मगर उन्हें डिग्री अंतरिक्ष में चक्कर लगाते हुए मिली। वहीं से वह यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन समारोह में भी शामिल हुए। दरअसल, एंड्रयू नासा के अंतरिक्षयात्री हैं और उन्हें पर्ड्यू यूनिवर्सिटी ने 11 मई को प्रदान की खास बात यह है कि जिस दिन यूनिवर्सिटी का कनवोकेशन था, उस दिन वह अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) में धरती से 250 मील की ऊंचाई पर चक्कर लगा रहे थे।

स्पेस से कार्यक्रम में शरीक:

एंड्रयू हर घंटे धरती का चक्कर लगाते हुए 17,150 मील की यात्रा तय करते हैं। वह इस समय तीसरे मिशन पर आईएसएस में हैं । आईएसएस पर लगे कैमरे की मदद से एंड्रयू यूनिवर्सिटी के कनवोकेशन प्रोग्राम में भी शामिल हुए और इसके लिए उन्होंने अपने काम से कुछ देर का ब्रेक भी दिया गया। इस खास कार्यक्रम के दौरान एंड्रयू ने छात्रों को बताया कि इंडियाना स्थित यह संस्थान आठ और नौ के दशक में, जब वह छात्र थे तो उनके लिए बहुत मायने रखता था। पेनसिलवेनिया के लैंकास्टर के 52 वर्षीय अंतरिक्षयात्री ने इस दौरान छात्रों को प्रेरक संदेश दिया। ‘मैं चाहूंगा कि आप सभी को मेरी तरह सितारों के बीच उडऩे का मौका मिले’।

अक्तूबर तक वापस आएंगे:

आईएसएस के एक अन्य अंतरिक्षयात्री और पर्ड्यू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र स्कॉट टिंगल ने एंड्रयू को डिग्री प्रदान की। एंड्रयू 80 दिन अंतरिक्ष में बिता चुके हैं और उनके खाते में 7 स्पेसवॉक हैं, जो 48 घंटे 28 मिनट की कुल है। बुधवार को वह अपनी 8वीं स्पेसवॉक कीे और अक्तूबर तक धरती पर वापस लौटेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...