नई पीढ़ी के लोगों का आईक्यू हो रहा कम

लंदन। ओस्लो स्थित इकनॉमिक रिसर्च के रैग्नर फ्रिस्च सेंटर के ओले रोजेबर्ग और बन्र्ट ब्रैट्सबर्ग ने 7 लाख 30 हजार पुरुषों पर अध्ययन किया, जिन्होंने 1970 से 2009 के बीच राष्ट्रीय सेवाओं में योगदान दिया है।

इनमें पाया गया कि इन पुरुषों की बुद्धिलब्धि या ज्ञान इसी उम्र में इनके पिता की अपेक्षा कम है।

यह शोध अमेरिका के नेशनल अकादमी ऑफ साइंस में प्रकाशित किया गया है। वैज्ञानिकों के एक शोध में सामने आया है

कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद से हर आने वाली पीढ़ी की बुद्धि या ज्ञान कम हो रहा है।

शोध के मुताबिक 1975 में जन्म लेने वाले बच्चों की आईक्यू (बुद्धिलब्धि) का स्तर उनके पहले वाली पीढ़ी की अपेक्षा सात अंक नीचे गिर रहा है

और ऐसा हर आने वाली पीढ़ी के साथ हो रहा है। इस

गिरावट ने लोगों की बुद्धि की उस बढ़ोतरी को भी खत्म कर दिया है, जिसमें 60-70 सालों से हर दशक में 3 अंक की वृद्धि हो रही थी।

तौर-तरीकों में बदलाव आना कारण…

शोधकर्ताओं के अनुसार इस गिरावट की वजह स्कूलों में गणित और साहित्य पढ़ाने के तरीके में बदलाव आना है।

हालांकि इसके साथ लोगों का किताबों की अपेक्षा गैजेट्स का इस्तेमाल करते रहना भी हो सकता है।

एक मनोविशेषज्ञ के अनुसार ये परिणाम काफी चिंताजनक हैं।

इससे पहले एक अध्ययन में यह बात सामने आई थी कि 9-11 वर्ष की उम्र के जो बच्चे आहार

में मछली का सेवन करते हैं, वे मछली नहीं खाने वालों की अपेक्षा ज्यादा समझदार होते हैं।

Read Also:
  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...