नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई लौटी पाकिस्तान

0
94
इस्लामाबाद। नोबल शांति पुरस्कार विजेता मलाला युसुफजई करीब 6 साल बाद पाकिस्तान लौट गई। पाक मीडिया के मुताबिक, गुरुवार सुबह पाकिस्तान के बेनजीर भुट्टो इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उनका विमान उतरा। मलाला पारंपरिक पाकिस्तानी सलवार, कमीज और दुपट्टा पहने विमान से बाहर निकलीं। उनके साथ उनकी मां और उनके पिता भी एयरपोर्ट पर देखे गए।
चार दिनों तक रहेगी:
 जानकारी के मुताबिक, मलाला अपने परिवार और मलाला फंड के सीईओ के साथ ‘मीट द मलालाÓ कार्यक्रम में शामिल होंगी। वो चार दिनों तक पाकिस्तान में रहेंगी। उनके पाकिस्तान आगमन पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। विमान से उतरने के बाद उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच एक स्थानीय होटल में ले जाया गया। सुरक्षा के मद्देनजर उनकी यात्रा का विवरण गुप्त रखा गया। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी मलाला से मिलेंगें।
कौन हैं मलाला:
मलाला का जन्म 1997 में पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत के स्वात जिले में हुआ। मलाला के पिता का नाम जियाउद्दीन यूसुफजई है। तालिबान ने 2007 से मई 2009 तक स्वात घाटी पर कब्जा कर रखा था। इसी बीच तालिबान के भय से लड़कियों ने स्कूल जाना बंद कर दिया था।
साल के अंत तक वहां करीब 400 स्कूल बंद हो गए। इसके बाद मलाल के पिता उसे पेशावर ले गए जहां उन्होंने नेशनल प्रेस के सामने वो मशहूर भाषण दिया जिसका शीर्षक था- हाउ डेयर द तालिबान टेक अवे माय बेसिक राइट टू एजुकेशन? तब वो केवल 11 साल की थीं।
गौरतलब है कि साल 2012 में लड़कियों के लिए शिक्षा की वकालत करने के लिए तालिबान के एक बंदूकधारी ने उन्हें सिर पर गोली मारी थी। गंभीर रूप से घायल मलाला को इलाज के लिए ब्रिटेन ले जाया गया। अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी भत्र्सना हुई थी मलाला स्वास्थ होकर लौटी।
पुरस्कार:
 2014 में मलाला को शांति का नोबेल पुरस्कार मिला। जब वह स्वस्थ हुई तो अंतरराष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार, पाकिस्तान का राष्ट्रीय युवा शांति पुरस्कार (2011) के अलावा कई बड़े सम्मान मलाला के नाम दर्ज होने लगे।  साहसी मलाला यूसुफजई की बहादुरी के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा मलाला के 16वें जन्मदिन पर 12 जुलाई को मलाला दिवस घोषित किया गया।  2013 में ही मलाला को यूरोपीय यूनियन का प्रतिष्ठित शैखरोव मानवाधिकार पुरस्कार भी मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...