पाकिस्तान में हिंदू विधवा और तलाकशुदा महिला को दूसरी शादी की इजाजत

0
39

कराची। पाकिस्तान के सिंध प्रांत ने हिंदू महिलाओं को पहले के मुकाबले ज्यादा अधिकार देने का फैसला किया है। वहां की विधानसभा ने इस बाबत बिल पारित किया है। इसके मुताबिक हिंदू विधवा और तलाकशुदा महिलाएं दूसरी शादी कर सकती हैं। पहले इसकी इजाजत नहीं थी।

पहले तलाकशुदा या विधवा हिंदू महिलाओं को दूसरी शादी की इजाजत नहीं थी। पाक के मुताबिक, सिंध हिंदू विवाह (संशोधन) विधेयक 2018 पति-पत्नी को अलग होने का भी अधिकार देता है। पत्नी और बच्चों की वित्तीय सुरक्षा भी सुनिश्चित करता है।

पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता नंद कुमार ने इस विधेयक को पेश किया था और मार्च में इसे विधानसभा ने पारित किया था। कानून के मुताबिक, ‘हिंदू विवाह, चाहे इस कानून के लागू होने के पहले हुआ हो या बाद में, दोनों ही मामलों में अदालत में अर्जी दायर कर न्यायिक अलगाव का आदेश देने का अनुरोध कर सकते हैं।’

इस कानून के तहत हिंदू समुदाय के सदस्यों में निर्धारित न्यूनतम आयु से कम उम्र में शादियों पर प्रतिबंध होगा। नंद कुमार ने कहा, ‘हिंदू समुदाय जबरन धर्मांतरणों और बहुत कम उम्र में लड़कियों की शादी का विरोध करता रहा है। इस कानून ने हिंदू समुदाय में नाबालिगों की शादी पर पाबंदी लगा दी है।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...