पाक में पहली हिन्दू महिला सीनेटर बनी कृष्णा

0
133


कराची। हिन्दू महिला कृष्णा कुमारी ने पाकिस्तान में इतिहास बना दिया है। कृष्णा ऐसी पहली हिन्दू महिला बन गईं हैं, जो पाकिस्तानी सीनेटर में चुनी गईं हैं। सत्तारूढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की ओर से पाकिस्तान के सिंध प्रांत में थार से कृष्णा मुस्लिम देश की पहली महिला सीनेटर बनी। बिलावल भुट्टो जरदारी की पार्टी पीपीपी ने अल्पसंख्यक के लिए सीनेट की एक सीट पर उनका नामांकन किया था। पाक न्यूज चैनल समा के अनुसार, एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में कृष्णा और उसके भाई पीपीपी से जुड़े हुए थे। उनके भाई को यूनियन काउंसिल बेरानो का चेयरमैन चुना गया।

जमींदार की जेल में गुजारे तीन साल

कृष्णा का जन्म 1979 में सिंध के नगरपारकर जिले के एक दूरदराज गांव में हुआ था। कृष्णा का संबंध स्वतंत्रता सेनानी रूपलो कोलही परिवार से है। उनके परिवार ने एक जमींदार की एक निजी जेल में करीब तीन वर्ष गुजारे। ब्रिटिश उपनिवेशों की सेना ने 1857 में जब सिंध पर हमला किया था, तब उसके खिलाफ रूपलो ने भी युद्ध में हिस्सा लिया था। कृष्णा तब 16 साल की थीं, तभी उनका विवाह लालचंद से हुआ। उस समय वह नौवीं कक्षा में पढ़ रही थीं। हालांकि शादी के बाद भी उन्होंने शिक्षा जारी रखी और 2013 में सिंध यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र में मास्टर डिग्री हासिल की।

महिला राजनेताओं में आगे पीपीपी

ज्ञात हो कि पीपीपी ने देश को कई महिला राजनेता दिए हैं। इनमें देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो, पहली महिला विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार और नेशनल असेंबली की पहली महिला फहमिदा मिर्जा शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...