पाक सेना की आलोचना करने वाली पत्रकार  का अपहरण  फिर रिहाई

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की राजनीती में सेना के हस्तक्षेप की कड़ी आलोचक, ब्रिटिश मूल की पत्रकार और समाज सेविका गुल बुखारी (52) वापस घर लौट आई हैं।
बुखारी के परिजनों ने इस बात की पुष्टि की । गुल बुखारी के परिजनों ने मामला दर्ज करवाया हैं।
जानकारी के अनुसार, मंगलवार रात को गुल बुखारी ‘वक्त टीवी’ के एक शो में हिस्सा लेने के लिए स्टूडियो जा रही थी।
अचानक लाहौर के छावनी क्षेत्र के शेरपाओ ब्रिज पर अज्ञात बदमाशों ने उनकी गाडी को रोक लिया
और जबरदस्ती अपनी गाडी में बैठाकर फरार हो गए।

हालांकि कुछ घंटो बाद ही उन्हें रिहा भी कर दिया गया।

बता दें, गुल बुख़ारी ने पाकिस्तान के प्रिंट और ब्रॉडकास्ट के विभिन्न समूहों में कार्य किया हैं।

पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी ने ट्वीट कर कहा कि

पाकिस्तान की राजनीती में सेना के हस्तक्षेप की आलोचना करने वाली पत्रकार गुल बुखारी गायब हैं।

मैं इस खबर से चिंतित हूं। वहीँ पत्रकार सईद शाह ने ट्वीट कर कहा कि गुल बुखारी एक राजनीतिक कार्यकर्ता हैं

और पाकिस्तान की सोशल मीडिया की आवाज हैं। चुनाव के एक हफ्ते पहले ऐसा हो रहा हैं।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...