पूरे देश में अलग-अलग नाम से मनाई जाती है ‘मकर संक्रांति’

0
79

भारत के अलग-अलग राज्यों में मकर संक्रांति के त्योहार को विभिन्न नामों से पहचाना जाता है।कर्नाटक में संक्रांति, तमिलनाडु और केरल में पोंगल, पंजाब और हरियाणा में माघी, गुजरात और राजस्थान में उत्तरायण एवं उत्तराखंड मे उत्तरायणी के नाम से मकर संक्रांति का यह त्योहार मशहूर है।आइए जानते हैं ‘मकर संक्रांति’ कहां कैसे मनाई जाती है और क्या है इसके पीछे की वजह।

राजस्थान और गुजरात
‘मकर संक्रांति’ 2019 पर राजस्थान और गुजरात में पतंग उड़ाने की पंरपरा है।जिसकी वजह से गुजरात में ‘पतंग महोत्सव’ को भी बड़े उल्लास के साथ मनाया जाता है।पतंग उड़ाने के अलावा इस दिन घरों में सूर्य पूजा करने के लिए घेवर, फैनी, तिल के लड्डू भी बनाएं जाते हैं।इस खास दिन यहां के लोग महिलाओं को सुहाग का सामान देना शुभ मानते हैं।

उत्तर प्रदेश
‘मकर संक्रांति’ 2019 का त्योहार उत्तर प्रदेश में बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन घरों में खिचड़ी बनाकर खाना शुभ माना जाता है। इसके अलावा लोग इस दिन तिल के लड्डू, तिल की गजक और मूंगफली के स्वाद का भी लुत्फ उठाते नजर आते हैं।

तमिलनाडु
‘मकर संक्रांति’ 2019 का त्योहार तमिलनाडु में ‘पोंगल’ नाम से जाना जाता है। इस दिन लोग घर में साफ-सफाई करने के बाद आंगन में आटे और चावल के आटे से रंगोली बनाते हैं। इसके बाद मिट्टी के बर्तन में खीर बनाई जाती है। जिसका भोग सबसे पहले सूर्य देव को लगाया जाता है। तमिलनाडु में ये त्योहार 4 दिनों तक मनाया जाता है।

बिहार-झारखंड
‘मकर संक्रांति’ 2019 के त्योहार पर बिहार-झारखंड में खिचड़ी के साथ दही-चूड़ा बनाने की परंपरा है। इसके अलावा यहां के लोग रात के भोजन में तिल से बने व्यजंन बनाते हैं।

महाराष्ट्र
महाराष्ट्र में ‘मकर संक्रांति’ 2019 का त्योहार 3 दिन तक मनाया जाता है। इस दौरान महाराष्ट्र की पारंपरिक ‘पूरन पोली’ खाई जाती है। साथ ही तिल से बने व्यंजनों को लोगों के बीच बांटकर पुरानी कड़वाहट को भुलाने की भी पहल की जाती है।

अगले तीन महीनों में देश्‍ में खुलेगा ईरान का पहला बैंक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...