बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक आज से, चार राज्यों के चुनाव पर होगा मंथन

0
75

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शनिवार और रविवार को दिल्ली में होने वाली है, जिसमें अगलेलोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति पर चर्चा होगी. बेहद कम समय में बनकर तैयार हुए अंबेडकर भवन में होने वाली इस महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह करेंगे और पीएम मोदी समेत पार्टी के तमाम बड़े नेता इसमें हिस्सा लेंगे.

इस बैठक में पार्टी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के योगदान और आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीति पर चर्चा करेगी.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के लिए अंबेडकर भवन को अटलमय बना दिया गया है, यानी पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की तस्वीरें लगाई गई हैं. इससे पार्टी एक तीर से दो निशाना साध रही है.

पहला वाजपेयी के आदर्शों को आगे लेकर चलना. दूसरा समाज के हर तबके तक पहुंचने की कोशिश करना.

शनिवार को सबसे पहले पार्टी के पदाधिकरियों की बैठक होगी, जिसके बाद शाम चार बजे पार्टी कार्यकारिणी की बैठक होगी. इस सबसे पहले भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी जाएगी.

उसके बाद पिछली बैठक से अब तक की प्रमुख गतिविधियों और कार्यक्रमों की जानकारी दी जाएगी. पार्टी के संगठनात्मक विषयों पर चर्चा होगी.

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक, इस बार की कार्यकारिणी इस साल के अंत मे होने वाले विधानसभा चुनावों और अगले साल होने वाले लोकसभा चुनावों की तैयारियों के इर्द-गिर्द होगी. मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मिजोरम चुनाव इस साल तय हैं.

अब तेलंगाना विधानसभा भंग होने से उसके चुनाव भी इन्हीं के साथ होने की संभावना बढ़ गई है. जाहिर है कि पांच राज्यों के चुनाव को देखते हुए इसे अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के फाइनल से पहले सेमीफाइनल के तौर पर देखा जाएगा

बीजेपी के लिए इन चुनावों में बेहतर प्रदर्शन करने का ज्यादा दबाव होगा. बीजेपी को लगता है कि विपक्ष के पास अब भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुकाबले कोई चेहरा नहीं है.

ये एक ऐसा बिन्दु है जिसके जरिए बीजेपी विपक्ष की संभावित एकता को जवाब देने की कोशिश करेगी.

इस राष्ट्रीय कार्यकारिणी में आर्थिक और राजनीतिक 2 प्रस्ताव पारित किए जाएंगे. सामाजिक समरसता बीजेपी का 2019 के लिए जीत का नया मंत्र होगा.

राजनीतिक प्रस्ताव में बीजेपी देश भर में एनआरसी लागू करने की बात कह सकती है. बांग्लादेशी घुसपैठियों और रोहिंग्या को भारत की धरती से बाहर निकालने का संकल्प लिया जाएगा.

पार्टी के आर्थिक प्रस्ताव में देश की विकास दर 8.2 आने को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की दूरदृष्टि का परिणाम बताते हुए इसके लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दी जाएगी.

कड़े आर्थिक फैसलों जीएसटी के जरिए एक देश एक कर की संरचना के लिए मोदी सरकार की तारीफ की जा सकती है

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...