बोर्ड परीक्षा में 85% अंक तो भी हो सकेगा आवेदन

जयपुर. बोर्ड परीक्षा में टॉपर रहीं आर्थिक पिछड़ा वर्ग सामान्य वर्ग की मेधावी बेटियों के लिए स्कूटियों की संख्या अब दुगुनी कर दी गई है और योजना में शामिल होने के लिए प्राप्तांक प्रतिशत का दायरा भी 5 फीसदी घटा दिया गया है।

अब कुल 800 स्कूटियों का वितरण होगा और बोर्ड परीक्षा में 85% से अधिक अंक प्राप्त करने वाली आर्थिक पिछड़ा वर्ग सामान्य वर्ग की बेटियां इस योजना के लिए आवेदन कर सकंेगी।

इसके बाद कक्षावार टॉपर रहने वाली छात्रा का स्कूटी के लिए चयन किया जाएगा। आवेदन के लिए जरुरी है कि अभिभावक की आय सालाना ढा़ई लाख रुपए से अधिक नहीं हो।

पिछले साल इस योजना के तहत 400 छात्राओं को स्कूटी दी जानी थी।

विभाग को केवल 302 छात्राएं ही मिल पाईं। इस योजना में शामिल होने के लिए बोर्ड की परीक्षा में 90% अंक जरूरी थे।

प्राप्तांक प्रतिशत अधिक होने से वाणिज्य वर्ग में केवल 33 छात्राएं ही योग्य मिलीं,

जबकि 98 स्कूटी देनी थीं। कला वर्ग में 98 में से 73 को ही स्कूटी दी जा सकी।

इस साल राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के सभी परिणाम जारी कर दिए हैं।

शिक्षा विभाग भी अब नए नियमों के तहत स्कूटी वितरण की तैयारी शुरू करेगा।

मुख्यमंत्री की बजट घोषणा के अनुसार इस साल आर्थिक

पिछड़ा वर्ग सामान्य वर्ग की मेधावी छात्रा स्कूटी योजना में स्कूटियों की संख्या 800 कर दी गई है।

इस योजना में शामिल होने के लिए बोर्ड परीक्षा में 85 फीसदी अंक होने जरूरी होंगे।

प्राप्तांक प्रतिशत कम करने से अब अधिक से अधिक

छात्राओं को इस योजना का लाभ मिल सकेगा।

अभिभावक की सालाना आय ढ़ाई लाख रुपए से कम होना भी जरुरी है।

-नथमल डिडेल, निदेशक माध्यमिक शिक्षा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...