भगत सिंह पर बोले फारूक अब्दुल्ला, देश के लिए बलिदान करने वालों का सम्मान करें

0
64
दरअसल, जम्मू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ताजिउद्दीन ने कथित तौर पर स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह को ‘आतंकवादी’ बता कर विवाद पैदा कर दिया है. हालांकि विवि आधिकारियों ने मामले की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया है।
इसके बाद फारुक अबदुल्ला ने प्रोफेसर ताजिउद्दीन से जुड़े मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की. हालांकि, उन्होंने कहा कि मैं व्यक्तिगत रूप से भगत सिंह समेत सभी क्रांतिकारियों का सम्मान करता हूं. उन्होंने कहा कि सभी लोगों को देश के लिए बलिदान करने वाले लोगों का सम्मान करना चाहिए।

खबरों के मुताबिक प्रोफेसर ने कहा कि वे भगत सिंह को क्रांतिकारी मानते हैं. अपनी सफाई में उन्होंने कहा कि मेरे बयानों को गलत तरीके से पेश किया गया है. दो घंटे के लेक्चर के कुछ अंश की व्याख्या गलत की गई है।

विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग में गुरुवार को व्याख्यान के दौरान प्राध्यापक मोहम्मद ताजुद्दीन ने कथित रूप से यह हवाला दिया. इसके तुरंत बाद छात्रों ने यह मामला कुलपति के समक्ष उठाया।

विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डॉ विनय थुसू ने बताया, ‘राजनीति विज्ञान विभाग के कुछ छात्र गुरूवार की शाम को कुलपति से मिले और घटना की जानकारी दी. उन्होंने साक्ष्य के रूप में एक सीडी भी कुलपति को सौंपी।’

त्वरित कार्रवाई करते हुए कुलपति एम के धर ने मामले की जांच और प्राध्यापक को अध्यापन से अलग करने का आदेश दिया।

उन्होंने बताया, ‘कुछ छात्रों ने प्रोफेसर ताजुद्दीन की शिकायत कुलपति से की. इसके तुरंत बाद उन्होंने जांच कमेटी का गठन किया. अकादमिक मामलों के डीन इस कमेटी की अध्यक्षता करेंगे. थुसू ने बताय कि कमेटी से सात दिन में जांच रिपोर्ट मांगी गयी है।

उन्होंने यह भी बताया कि ताजुद्दीन को अगले आदेश तक अध्यापन से तत्काल प्रभाव से अलग कर दिया गया है।

प्रोफेसर ताजिउद्दीन के कथित बयान के बाद क्लास में छात्रों ने उनका विरोध किया. छात्रों ने प्रोफेसर पर राष्ट्रवादी भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने का भी आरोप लगाया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...