भाजपा के अग्रिम संगठनों के प्रभारी बदले जाएंगे

महानगर संवाददाता
जयपुर। नए पार्टी प्रदेश अध्यक्ष के बाद अब प्रदेश भाजपा संगठन में चुनावी साल में जल्दी ही अग्रिम संगठनों के अगवा यानी प्रभारी बदले जाएंगे। इसे लेकर संगठन स्तर पर कसरत तेज हो गई है। नए संगठन प्रभारियों के चयन में भी कॉस्ट फैक्टर का खास ख्याल रखा जाएगा। माना जा रहा है कि अग्रिम संगठनों की अगुवाई करने वाले प्रभारियों के बदलने से इनके कामकाज में तेजी आएगी और इसका फायदा चुनावों में पार्टी को मिलेगा।

नए संभावित चेहरों के नामों को लेकर अंदरखाने में मंथन की प्रक्रिया चल रही

है और अब जल्दी ही इनकी सूची पार्टी प्रदेश अध्यक्ष को सौंपी जाएगी। इसके

बाद संबंधित संगठनों के सदस्यों से रायशुमारी लेने के बाद इन नामों पर मोहर

लगाई जाएगी। उम्मीद की जा रही है कि इस माह के अंत तक भाजपा के

अग्रिम संगठनों में प्रभारी बदले जा सकते हैं।

भाजपा के किसान मोर्चा, युवा मोर्चा, महिला मोर्चा सहित करीब आधा दर्जन

अग्रिम संगठनों के प्रभारी बदलने की तैयारी तेज हो गई है। प्रदेश अध्यक्ष का

पद संभालने के बाद से ही एक्शन मोड पर आए मदनलाल सैनी चुनावी वर्ष के

लिहाज से अग्रिम संगठनों की बागडोर नए चेहरे को सौंपने से पहले पार्टी के

वरिष्ठ पदाधिकारियों के मन की बात भी जानेंगे। मौजूदा समय में भाजपा के

अग्रिम संगठन सदस्यों का कुनबा बढ़ाने के साथ ही नए मतदाताओं में पार्टी की

रीति-नीति का प्रचार करने की अहम जिम्मेदारी निभा रहे हैं। ऐसे में इस तरह

के अभियानों का सफलतापूर्वक संचालन करने की क्षमता रखने वाले कार्यकर्ता

को संगठन प्रभारी बनाए जाने के संकेत दिए जा रहे हैं।

परफोरमेंस का आकलन रहेगा, प्रभारियों की चयन की कसौटी

संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों की मानें तो अग्रिम संगठनों के प्रभारियों के

चयन को लेकर परफोरमेंस का आकलन प्रमुख आधार रहेगा। किसी भी अग्रिम

संगठन के प्रभारी के चयन से पहले यह देखा जाएगा कि वह अपने संगठन में

कितना प्रभाव रखता है। उधर अग्रिम संगठन प्रभारियों में बदलाव की

सुगबुगाहट मात्र से दावेदारी को लेकर वरिष्ठ कार्यकर्ता सक्रिय हो गए हैं।

अग्रिम संगठनों की अगुवाई के इच्छुक पदाधिकारी प्रत्यक्ष रूप से तो नहीं

अप्रत्यक्ष रूप से अपनी-अपनी सिफारिश लगाने की जुगत में जुट गए हैं।

कई जिलाध्यक्ष भी बदले जाएंगे

नए पार्टी प्रदेश अध्यक्ष के पद संभालने के बाद लंबे समय से अंतर्कलह से जूझ

रही भाजपा के अलग-अलग जिलों के संगठनात्मक ढांचे में भी बदलाव किया

जाएगा। इसी कड़ी में कई जिलों के जिलाध्यक्ष बदलने की तैयारी चल रही है।

जिलाध्यक्ष बदले जाने से उनकी टीम यानी जिलों की कार्यकारिणी में भी

आमूलचूल बदलाव किया जाएगा।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...