भारत की सफलता की कहानी उसके मुखिया से सुनना चाहती है दुनिया: पीएम मोदी

0
113
PM-modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में देश में जाति केंद्रित राजनीति और लोकतंत्र पर खतरे जैसे सवालों का खुलकर जवाब दिया। उन्होंने कहा किया कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है। इस तरह की राजनीति के बजाय हमें एकता, विकास और दूरगामी भविष्य के मुद्दों पर राजनीति करनी चाहिए।

इस इंटरव्यू में प्रधानमंत्री ने अपनी आगामी दावोस यात्रा पर भी खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि विश्व के इतने बड़े आर्थिक केंद्र के मुखिया के मुंह से दुनिया कुछ सुनना चाहती है। देशवासियों ने जो तरक्की की है, जो उपलब्धियां हासिल की हैं, उसे दुनिया के सामने रखने में मुझे गर्व महसूस होगा। वहीं इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने रोजगार और जीएसटी से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवालों का भी जवाब दिया।

दावोस में इस महीने के अंत में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) की सालाना बैठक होने जा रही है और प्रधानमंत्री इसमें भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है और इसे सभी रेटिंग एजेंसियों के साथ ही विश्व ने भी स्वीकार किया है।

दावोस में हो रही डब्ल्यूईएफ की बैठक देश के लिए अच्छा अवसर है क्योंकि भारत एक बड़ा बाजार होने के साथ ही जनसांख्यिकीय विविधताओं वाला भी देश है। ऐसे में वह दुनिया के आकर्षण का केंद्र है और विदेशी प्रत्यक्ष निवेश में लंबी छलांग लगाई है। ऐसे में विश्व के देश उससे सीधा संपर्क करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि दावोस एक तरह से अर्थ जगत की बड़ी पंचायत बन गई है, जहां अर्थ जगत की बड़ी हस्तियां, नीति निर्माता शिरकत करते हैं। प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही इसमें शामिल होने की इच्छा थी लेकिन जा नहीं पा रहा था। इस बार एशियान बैठक हो रही हैं और इसमें भारत प्रमुख आकर्षण का केंद्र है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...