भारत की ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का दुनिया में पहला स्थान, ये हैं दुनिया की सबसे ऊंची मूर्तियां

0
92

भारत के पहले गृहमंत्री और देशी रियासतों को भारत में विलय करने वाले सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को एक दिवस के रूप में मनाई जा रही है। इस मौके पर रन फॉन यूनिटी जैसे कार्यक्रम भी देश के प्रमुख स्थानों में आयोजित किए जाएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर को गुजरात के अहमदाबाद में लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की सबसे ऊंची और बड़ी मूर्ति ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का अनावरण करने वाले हैं। अपनी ऊंचाई के कारण यह प्रतिमा अब दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति बन गई है। दुनिया में अब दूसरे स्थान पर चीन में स्प्रिंग टेंपल में बुद्ध की मूर्ति है जिसकी ऊंचाई 153 मीटर है।

टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने बेटे को दिया जन्म, फराह बोलीं- मैं खाला बन गई

सरदार पटेल की जयंती को एकता दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत देश वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में की थी। वर्तमान ‘एक भारत’ निर्माण करने के लिए सरदार पटेल के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्ति करने के लिए ऐसा किया जाता है। इसी क्रम में ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ सरदार वल्लभभाई पटेल की विशालकाय प्रतिमा का लोकार्पण भी किया गया था। इस प्रतिमा के बारे में बताते हुए अपने 49वें ‘मन की बात’ कार्यक्रम कहा कि यह मूर्ति दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होगी और अमेरिका की स्टैच्यू ऑफ लिबरटी से दोगुना बड़ी है।
जानें दुनिया की 10 सबसे ऊंची मूर्तियों के बारे में-
1- स्टैच्यू ऑफ यूनिटीImage result for स्टैच्यू ऑफ यूनिटी
सरदार पटेल की इस गगनचुंबी मूर्ति की ऊंचाई 182 मीटर यानी 597 फीट है। इस मूर्ति को बनाने में करीब 42 महीने का समय लगा है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का निर्माण नर्मदा नदी के तट पर नर्मदा डैम के पास किया गया है। यह दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होगी।
2- स्प्रिंक टेम्पल बुद्धImage result for स्प्रिंग टेम्पल बुद्ध

चीन में लुशान काउंटी के झाउकन टाउनशिप में बनी भगवान बुद्ध की यह अब तक दुनिया की सबसे ऊंची मर्ति थी। लेकिन भारत की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनने के बाद इसका स्थान अब दूसरा हो गया है। चीन की इस प्रतिमा की ऊंचाई 128 मीटर है।

3- लेयक्युन सेत्क्यार: 130 मीटर (427 फीट) ऊंची बुद्ध की प्रतिमा बर्मा में है। भारत की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से पहले इस का स्थान दूसरा था। इसका निर्माण 2008 में हुआ था।
4- उशिकु डायबुत्सु: जापान के उशिकु में स्थित 120 मीटर (394 फीट) ऊंची इस प्रतिमा का निर्माण 1993 में हुआ। इसका बेस 10 मीटर ऊंचा है। इसका स्थान अभी तक तीसरा था।
5- गुआयिन ऑफ द साउथ सी ऑफ सान्या: 108 मीटर (354 फीट) ऊंची प्रतिमा चीन के हैनन प्रांत में है।

6- द स्कल्पचर्स ऑफ द इंपीरियर्स यान एंड हॉन्ग: चीन के दो शासकों की 106 मीटर ऊंची प्रतिमा अभी तक दुनिया में पांचवें स्थान पर थी। चीनी शासक यान व हॉन्ग की इस प्रतिमा को बनाने में 20 वर्ष लगे थे और यह 2007 में बनकर पूरी हुई थी। ये प्रतिमा चीन के हैनन प्रांत में है।

7- सेन्डई डायकोनॉन: जापान की यह प्रतिमा 100 मीटर (328 फीट) ऊंची है। एक एलिवेटर की मदद से पर्यटक प्रतिमा की ऊंचाई तक जा सकते हैं।

8- पीटर द ग्रेट: रूस के मास्को में स्थित 98 मीटर ऊंची यह प्रतिमा रूसी नौसेना के 300 साल पूरे होने के अवसर पर निर्मित की गई थी। नौसेना पीटर द ग्रेट द्वारा स्थापित की गई थी। इसे 1997 में गॉर्जियन डिजाइनर जुराब सेरेतली ने डिजाइन किया था। 1000 टन वजनी यह प्रतिमा 600 टन स्टेनलेस स्टील, ब्रॉन्ज और तांबे से बनी है।

9- द ग्रेट बुद्धा ऑफ थाइलैंड: थाइलैंड की यह सबसे ऊंची प्रतिमा दुनिया में नौवें स्थान पर है। इसकी ऊंचाई 92 मीटर (300 फीट) है। इसका निर्माण 1990 में शुरू हुआ था और यह 2008 में पूरा हुआ।

10-  10वें स्थान पर जापान की कान्नन प्रतिमा आती है।

————————————————————————-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...