भारत ने कनाडा से कहा…बंद करो आतंककारियों का महिमा मंडन

जिनेवा। भारत सरकार ने कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन टुडो से कहा है कि वे स्थानीय लोगों की ओर से की जा रही हिंसा को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए। भारत का कहना है कि कनाडा के लोग आतंककारियों की महिमा ऐसे कर रहे हैं, जैसे वे शहीद हों। कनाडा के लोग इसके चलते हिंसा कर अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग कर रहे हैं। भारत ने यह बयान स्विट्जरलैण्ड के जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् की ओर से समय-समय पर किया जाने वाले विश्व सम्बंधी समीक्षा सत्र में दिया।

यह सिफारिश भी की

बयान में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के एक प्रतिनिधि ने यह सिफारिश भी की, कनाडा स्वदेशी लोगों के खिलाफ भेदभाव से लडऩे, नस्लीय हिंसा से निपटने के लिए भी काम करें। भारत ने कहा कि कनाडा अन्य चीजों के साथ महिलाओं के वेतन को बढ़ाने में अपनी प्रगति जारी रखें।
भारत को यह आपत्ति है कि कनाडा के लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में सिख अलगाववादी लोगों की प्रशंसा कर रहे हैं। साथ ही टुडो सरकार ने भी सिख अलगाववादी तत्वों के प्रति अपनी उदारता दिखाई है।

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन

फरवरी में जब कनाडा के पीएम भारत आए थे, तब भी यह मुद्दा टॉप पर था। भारत का कहना है कि कनाडा के कुछ सिख मंदिरों में तलविंदर सिंह परमार के पोस्टर लगे हुए हैं। यह वही परमार है, जिसे 1985 के एयर इंडिया बमबारी का जिम्मेदार माना जाता है। भारत के मुताबिक इस आतंककारी को कनाडा के लोग शहीद की तरह मानते हैं। यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग है।

हरदीप को बनाया आरोपी

भारत ने अभी हाल ही में सरे के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसमें भारत ने हरदीप सिंह निज्जर नामके एक व्यक्ति को आरोपी बनाया है। इसमें आरोप लगाया है कि हरदीप ने भारत पर एक बहुत बड़ा आतंकी हमला करने की योजना बनाई थी। इस मामले में पहले हरदीप ने सिख अलगाववादियों के पक्ष में बात कही, हालांकि, हिंसा के किसी भी कृत्य में शामिल होने से इनकार कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...