भुतिया राजा के डर से यहां के लोग नहीं मनाते होली

0
146

बोकारो। होलिका और भक्त प्रहलाद की कहानी को आपने खूब सुनी होगी। होली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। इसलिए पूरे देश में होली का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है। इस समय पूरे देश में होली का उल्लास छाया हुआ है। लेकिन, देश का एक हिस्सा ऐसा भी है, जहां 100 साल से भी ज्यादा समय से होली नहीं मनाई जाती है। यह क्षेत्र झारखंड में बोकारो के कमसार ब्लॉक स्थित दुर्गापुर गांव है। यहां के लोग होली नहीं मनाने के पीछे तर्क देते हैं कि ऐसा करने से वे राज अवज्ञा के दोषी बनेंगे और फिर ग्रामवासियों को भूत परेशान करेगा। इस गांव की आबादी करीब 9 हजार है।

राज अवज्ञा और भूत की कहानी गांव के बुजुर्ग यूं बताते हैं कि किसी समय राजा दुर्गा प्रसाद का शासन दुर्गापुर में था। राजा को होली खेलना बहुत ही अच्छा लगता था, लेकिन कुछ समय बाद राजा की प्रिय बेटी की होली के दिन ही मौत हो गई। उसके बाद जब भी गांव में होली मनाई जाती तो कभी अकाल पड़ता या फिर भयंकर बीमारी लोगों को काल का ग्रास बना लेती। लोगों का कहना है कि राजा ने अपनी मौत से पहले आदेश दिया था कि उसकी प्रजा कभी होली का त्योहार नहीं मनाए। क्योंकि, होली के दिन ही युद्ध में राजा की मौत हो गई थी। इसके चलते करीब 100 साल से भी ज्यादा समय से यहां के निवासी होली नहीं मनाते हैं। गांव वाले इस आदेश को अभी भी मानते थे और राजा के भूत के खौफ से डरते भी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...