मौलाना अबुल कलाम आजाद पर बनी फिल्म सेंसर बोर्ड से पास

0
54
फिल्म के लेखक एवं निर्देशक राजेन्द्र संजय ने कहा कि युवा पीढ़ियों को जानना चाहिए कि संकट के समय में मौलाना आजाद किसके लिए खडे़ रहे।
संजय ने कहा, ‘फिल्म आजाद के सिद्धांतों, सांप्रदायिक सौहार्द, धर्मनिरपेक्ष विचारों और मानवता में उनके विश्वास को दर्शाती है, जो किसी भी धर्म और आस्था से प्रभावित नहीं थे। ’
उन्होंने कहा कि फिल्म में आजाद की जिंदगी से जुड़ी उन बड़ी घटनाओं को बयां किया गया है जिसने उन्हें ‘सच्चा जन नेता’ बनाया।

सेंसर बोर्ड ने दो घंटे की इस फिल्म को मंजूरी दे दी है और इसकी अधिकतर शूटिंग कोलकाता, मुम्बई और दिल्ली में की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...