मौसम बदलते ही उड़ा ट्रांसफॉर्मरों में करंट अंधड़ एवं बूंदाबांदी से दर्जनों ट्रांसफॉर्मर खराब

महानगर संवाददाता जयपुर। पिछले कई दिनों से चले आ रहे अंधड़ एवं बूंदाबांदी के सिलसिले के बीच राजधानी में स्पार्किंग और अन्य तरह की तकनीकी खामियों से रोजाना ट्रांसफॉर्मर खराब होने की शिकायतें डिस्कॉम के लिए सिरदर्द बनी हुई हैं। गुणवत्ताहीन ट्रांसफार्मर स्थापित किए जाने से शहर की कई कॉलोनियों एवं मोहल्लों में वोल्टेज में उतार-चढ़ाव की दिक्कतें आ रही हैं।

शहरी क्षेत्र में पिछले एक सप्ताह की अवधि में करीब एक दर्जन ट्रांसफॉर्मर खराब हो चुके हैं और इनमें ज्यादातर गारंटी पीरियड के हैं। हालांकि डिस्कॉम अधिकारी अपनी लापरवाही पर पर्दा डालते हुए ट्रांसफॉर्मरों की गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखने का तर्क दे रहे हैं।

लेकिन इस तरह ट्रांसफॉर्मरों में खराबी आने से विभाग को प्रतिवर्ष करोड़ों का चूना लग रहा है।
ट्रांसफार्मरों की खरीद प्रक्रिया में उच्चाधिकारियों की लापरवाही डिस्कॉम प्रशासन पर भारी पड़ रही है। ऐसे अधिकारियों की खरीद कंपनी से सांठगांठ के चलते डिस्कॉम को गुणवत्ताहीन ट्रांसफॉर्मरों की आपूर्ति का खेल लगातार जारी है। मौजूदा समय में जयपुर में प्रति सप्ताह औसतन करीब एक दर्जन ट्रांसफार्मर तकनीकी खामियों के कारण बदले जा रहे हैं।

फिलहाल मानसून भी सक्रिय नहीं हुआ है और भीषण गर्मी का दौर जारी है, ऐसे में अधिकारी भी स्वीकार कर रहे हैं कि तेज बारिश का दौर शुरू होने पर इनमें खराबी की आशंका और भी ज्यादा बढ़ सकती है।

यह हालत डिस्कॉम में ट्रांसफॉर्मर और दूसरे तरह के उपकरणों की जांच के लिए बाकायदा अलग से विंग होने के बावजूद बने हुए हैं। इस विंग के माध्यम से गुणवत्ता जांच में बरती जा रही लापरवाही का खामियाजा शहर के आम उपभोक्ताओं को उठाना पड़ रहा है। स्थिति यह है कि बारिश और खराब मौसम ही नहीं बल्कि सामान्य मौसम में भी बड़ी संख्या में ट्रांसफार्मर खराब हो रहे हैं और इनमें से बहुत से गारंटी पीरियड वाले शामिल हैं।

आपूर्ति कंपनी पर मेहरबानी बनी जनता की परेशानी

घटिया क्वालिटी के ट्रांसफॉर्मर सप्लाई करने वाली फर्मों के खिलाफ डिस्कॉम की ओर से नियमानुसार कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। ऐसी फर्मों को सख्ती के नाम पर खराब ट्रांसफॉर्मर की एवज में दूसरा लगाने को जरूर पाबंद कर दिया जाता है लेकिन इससे इन फर्मों पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है।

नतीजन ऐसी फर्म डिस्कॉम को अंधेरे में रखकर अधिकारियों से मिलीभगत कर गुणवत्ताहीन ट्रांसफार्मर सप्लाई कर रही हैं।
Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here