योगी सरकार में मंत्री के बोल: भगवान राम जहां पैदा हुए वहीं बनेगा मन्दिर?

नई दिल्ली। आध्यात्मिक योग गुरु श्रीश्री रविशंकर के बाद उत्तरप्रदेश की योगी सरकार के केबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने भी अयोध्या में राममंदिर को लेकर टिप्पणी की है। इन मंत्री का कहना है कि राम मंदिर अयोध्या में नहीं तो क्या न्यूयॉर्क में बनेगा? योगी सरकार में धार्मिक कार्य, संस्कृति और अल्पसंख्यक विभाग के केबिनेट मंत्री ने मुस्लिम महिला सम्मेलन में यह बयान दिया। उनसे वहां पूछा गया कि अयोध्या विवाद पर मध्यस्थता के जरिए हल निकालने के समझौते फॉर्मूले को शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने खारिज कर दिया है। इस पर उन्होंने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राम मंदिर अयोध्या में नहीं तो क्या न्यूयॉर्क में बनेगा? जहां भगवान राम पैदा हुए, वहीं उनका मन्दिर बनना चाहिए। ये बात हमने पहले भी कही है, आज भी कह रहे हैं और आगे भी कहते रहेंगे।

रविशंकर कर रहे हैं मसला सुलझाने की पहल

ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर कोर्ट के बाहर समझौते के जरिए अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए विभिन्न मुस्लिम और अन्य संगठनों से लगातार बातचीत कर रहे हैं। ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य रहे सलमान नदवी ने श्रीश्री से बात करते हुए मुसलमानों को राम मंदिर के नाम पर जमीन छोड़ देने की बात कही थी। उन्होंने कहा था, शरियत में मस्जिद को शिफ्ट करने का प्रावधान है, मैं हिंदू-मुस्लिम एकता और उस मुद्दे को सुलझाने की बात कर रहा हंू, मैं अयोध्या में साधुओं से भी मुलाकात कर इस मसले पर चर्चा करूंगा। हालांकि, उनके इस बयान के बाद उन्हें ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड से बाहर निकाल दिया गया था। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा था कि अयोध्या मुद्दे पर उसके रुख में कोई बदलाव नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...