लंदन में स्थित कैंब्रिज एनालिटिका कंपनी को खाली कराया

0
31
लदंन । ब्रिटेन के लंदन में स्थित कैंब्रिज एनालिटिका कंपनी को खाली करा लिया गया। पूरे एरिया को ब्लाक कर दिया गया हैं। वहा से निकले सामान को जांच के लिए भेज दिया गया हैं। लंदन में कैंब्रिज एनालिटिका वही कंपनी है जिसपर करोड़ों फेसबुक यूजर्स का डेटा गलत तरीके से इस्तेमाल करके अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति का चुनाव जितवाने और यूरोपियन यूनियन से ब्रिटेन के अलग होने के कैंपेन ब्रेक्जिट को प्रभावित करने के आरोप लगे हैं।
कैसे होता था काम:
कैंब्रिज एनालिटिका काम डेटा विश्लेषण का है। कंपनी का लंदन स्थित ऑफिस एंड यूजर्स को प्रभावित करने के लिए  उनका प्रोफाइल बनाने का काम करती है। जिसका प्रोफाइल कंपनी बनाती है उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं होती। प्रोफाइल बनाने के लिए कई सोर्सेज से डेटा इक्ट्ठा करती है। उसके बाद पोलिंग करवाती है जिसके सहारे यूजर्स से उनकी राय ली जाती है ताकि उनके विचार जानने के बाद उसे प्रभावित किया जा सके। सारा डेटा इक्ट्ठा करने और उसके सहारे यूजर्स की प्रोफाइल बनाने के बाद कंप्यूटर प्रोग्राम का इस्तेमाल करती है ताकि एंड यूजर्स या वोटर्स के विचारों को प्रभावित किया जा सके। इसके लिए  अलग से ऐसे ऐड यानी प्रचार की सामग्री तैयार करती है जिससे सीधे तौर पर यूजर की सोच पर हमला किया जाता है और उसके विचारों को बदल दिया जाता है। कंपनी के पास ऑनलाइन यूजर्स के डेटा का अंबार है।
जकरबर्ग ने 2015 में इसके एप कोगन को बैन कर दिया था। खास बात ये है कि डेटा चोरी करने वाली कैंब्रिज एनालिटिका की इंडियन फर्म स्ट्रेटेजिक कम्युनिकेशन्स लैबोरेट्रीज प्राइवेट लिमिटेड और ओवलेने बिजनेस इंटेलिजेंस से केंद्र में सत्ताधारी बीजेपी, मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस और बिहार की सत्ताधारी पार्टी जेडीयू ने मदद ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here