वाइल्ड लाइफ के शौकिन हैं तो टाइगर्स के साथ कर सकते है अठखेलियां

0
130

रणथंभौर नेशनल पार्क में गर्मी के चलते अधिंकाश पेडो़ं के पत्ते, झाड़ियां एवं घास सूख चुके होते है। जिसकी वजह से दूर से ही वन्यजीवों को देख पाना आसान हो जाता है। पानी की कमी के चलते अधिकांश वन्यजीव पोखर एवं बनाये गये गडढो़ के पास ही बैठकर गर्मी से बचने का जतन करते रहते हैं।

रणथंभौर उत्तरी भारत में सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है।

रणथंबोर वन्यजीव अभयारण्य अपने बंगाल बाघों के लिए जाना जाता है।

रणथंभौर नेशनल पार्क बाघों की अठखेलियों के लिए देश ही नहीं

विश्वस्तर पर अपनी अलग पहचान रखता है।

इन प्राकृतिक जानवरों के प्राकृतिक जंगल के निवास में इन जानवरों को

देखना भारत के सबसे अच्छे स्थानों में से एक है। यहां पर टाइगर्स को दिन में भी आसानी से देखा जा सकता है।

रणथंभौर बाघ अभ्यारण्य में बाघों के साथ साथ पैंथरस, लेपर्ड, स्लोथ बियर के

विचरण का जो नजारा देखने को मिलता है शायद ही वैसा दुनिया में कही भी मिलता हो।

यही वजह है कि इन दिनो रणथंभौर नेशनल पार्क में हो रही बाघों की शानदार साइटिंग पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है।

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...