विधायक ज्ञानदेव ने प्रशासन के खिलाफ खोला मोर्चा, कहा बड़ी मछलियों को नजरअंदाज कर रही सरकार

भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा रामगढ़ के ललावंडी गांव पहुंचे। जहां उन्होंने मॉब लिंचिंग मामले में मृत अकबर को गौतस्कर बताया। साथ ही उन्होंने उपाधीक्षक प्रशिक्षु आईपीएस अनिल बेनीवाल पर निष्पक्ष कार्रवाई न करने का आरोप लगाया। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि गौतस्करी के आरोप में मारपीट के दौरान मृत हुए किसी आरोपी के परिजनों को सरकार ने अब तक आर्थिक सहायता नहीं दी है। इस संबंध में मुख्यमंत्री से वार्ता की जा रही है। यह कोशिश की जा रही है कि ऐसे किसी गौतस्करी मे संलिप्त किसी भी आरोपियों के परिजनों को आर्थिक सहायता न मिले।
उन्होंने कहा कि मैं विधानसभा में अपनी बात रखता हूं लेकिन विद्रोह नहीं करता। क्योंकि मैं पार्टी का वफादार सिपाही हूं। उन्होंने गौ तस्करी के लिए सीधे सीधे तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश एडिशनल एसपी श्याम सिंह और सीओ अनिल बेनीवाल पर आरोप। आहूजा ने कहा कि जब ये लोग आए थे तो उन्होंने रामगढ़ की समस्या में गौ तस्करी, गोकशी, अवैध खनन सिंथेटिक दूध और लव जिहाद पर रोक लगाने की मांग की गई थी। लेकिन ये अधिकारी इनमें पूरी तरह विफल रहे। साथ ही अपराध रूकने के बजाय इनके संरक्षण में और पनपन लगा।

ललावंडी में ग्रामीणों से बातचीत के दौरान विधायक आहूजा ने कहा कि लोगों को पुलिस ने मॉब लिंचिंग मामले में बेवजह आरोपी बनाया है। पुलिस ने धोखे से थाने बुलाकर उन्हें गिरफ्तार कर लिया। जबकि ये सभी लोग पुलिस की जांच में सहयोग कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि गौ तस्करी के मामले में असलम और अकबर के खिलाफ मुकदमे दर्ज होनी चाहिए।  अगर पुलिस शिकायत दर्ज नहीं करती है तो इसके लिए हम कोर्ट का सहारा लेंगे। शनिवार की शाम को नौगांवा पुलिस द्वारा पकड़े गए गाय का मामले पर उन्होंने टिप्पणी की। इस दौरान राजस्थान गोवंश संवर्धन अधिनियम 1995 का हवाला देते हुए कहा कि इस अधिनियम के तहत कोई भी गोवंश की निकासी अगर होती है तो ट्रांजिस्ट परमिट के आधार पर होती है।  जिसमें कम से कम उपखंड अधिकारी की स्वीकृति होना आवश्यक है। अगर नौगांवा पुलिस द्वारा गोवंश छोड़ा गया है तो यह गंभीर मामला है। इसकी शिकायत उच्च अधिकारियों व गृह मंत्री से की जाएगी ।
विधायक यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि रामगढ़, बगड़ तिराया, मुबारिकपुर, गोविंदगढ़ और नौगांवा के मौलाना के यहां बैठकर षड्यंत्र रचा जाता है। साथ ही कहा कि यही लोग गोकशी जैसी घटनाओं के आरोपियों को संरक्षण देते हैं। उन्होंने सवाल किया कि रात को 12 बजे कौन दुधारू गायों को लेकर जाएगा और वह भी कच्चे रास्ते से। ये दोनों आरोपी 27 घटनाएं कर चुके हैं। उसके बावजूद भी पुलिस इनको गौ तस्कर नहीं मान रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...