काबुल में शांति के पाक इरादों पर भारी नापाक मंसूबे… आत्मघाती हमले में 14 मरे

काबुल। अफगानिस्तान  में अमन शांति की बात करना कितना खतरनाक हो गया हैं इस बात का पता  राजधानी काबुल एक बार फिर आत्मघाती हमले से लगता हैं।
इस आत्मघाती हमले में 14 लोगों के मारे जाने की खबर है, वहीं 17 घायल हुए हैं।
ये हमला उस वक्त हुआ जब सोमवार को दो हजार से ज्यादा उमेला (मौलवी और धर्म गुरु) आतंकवाद के खिलाफ और शांति स्थापित करने के लिए हो रही एक बैठक में शामिल होने पहुंचे थे।
बताया जा रहा है कि इस हमले में मारे गए लोगों में 7 धर्म गुरु, 4 सुरक्षाकर्मी और 3 तीन ऐसे हैं, जिनकी अभी तक पहचान नहीं हो पाई है। दरअसल, यहां की एक शीर्ष धार्मिक संस्था ने एक फतवा जारी करते हुए
इस्लामिक कानून के तहत आत्मघाती हमलों को हराम करार दिया है।
अफगान काउंसिल ने अफगानिस्तानी सरकार की सेना और तालिबान,
अन्य आंतकवादियों से लड़ाई रोकने और संघर्ष विराम पर सहमति बनाने की अपील की है।
उसने दोनों पक्षों के बीच शांति वार्ता का भी आह्वान किया।
यह पहली बार है जब काउंसिल ने ऐसी अपील की है। लेकिन ऐसा लगता है कि
आतंक फैलाने वाले लोगों को शांति की ये पहल पसंद नहीं आई और उन्होंने इस आत्मघाती हमले को अंजाम दिया।
Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...