शेर से मुकाबले के लिए ड्रेगन ने बढ़ाया रक्षा बजट

0
121

बीजिंग। सीमा विवाद को लेकर अभी हाल ही में भारत और चीन के रिश्तों में तल्खी आ गई थी। वहीं चीन भारत के सबसे बड़े दुश्मन पाकिस्तान का रहनुमा भी है। चीन एकमात्र देश है, जो पाकिस्तान की हमेशा मदद करता है। इसी के बूते पाकिस्तान भी भारत को आए दिन आंख दिखाता रहता है। भारत से आई तल्खी के बीच चीन ने वर्ष 2018 का अपना रक्षा बजट 8.1 फीसदी बढ़ा दिया है। ड्रेगन का यह बजट पिछले साल की तुलना में करीब सात फीसदी अधिक है। वहीं अगर भारत से तुलना की जाए तो यह तिगुना है। यानी रक्षा बजट के मामले में भारत अपने प्रमुख प्रतिद्वंदी चीन से बहुत पीछे है।
चीन की मीडिया में प्रकाशित इस रिपोर्ट में वहां का 2018 का रक्षा बजट 1110 करोड़ युआन (175 अरब डॉलर) होगा। चीन के प्रवक्ता झांग येसुई ने कहा कि हमारे देश का प्रति व्यक्ति सैन्य खर्च अन्य देशों के मुकाबले बहुत कम है। उधर, ड्रेगन के इस बड़े रक्षा बजट से भारत की मुश्किले बढऩे वाली हैं। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि चीन इस बजट का बड़ा हिस्सा भारतीय सीमा पर खर्च करेगा। इससे दोनों देशों में तनातनी बढ़ेगी। क्योंकि, अभी भी चीन भारतीय सीमा पर निर्माण कर रहा है, जिसका भारत कई बार विरोध कर चुका है। इस बजट से चीन की सामरिक ताकत भी बढ़ेगी। हालांकि, भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी ने चीन की इस चालबाजी का हल पहले ही निकाल लिया था। इसलिए उन्होंने अपनी कूटनीतिक के जरिए चीन के विरोधी देशों का समर्थन हासिल कर चुके हैं। इनमें आसियान देश और वियतनाम प्रमुख हैं। इससे भारत के खिलाफ चीन की रणनीति कमजोर साबित होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...