संसार को बदलना है तो सोच को बदलो: गुरुवांनद स्वामी

महानगर संवाददाता
मानसरोवर में गुरु पूर्णिमा महोत्सव
जयपुर। विश्व धर्म चेतना मंच एवं श्री ब्रह्मर्षि आश्रम राजस्थान के संयुक्त तत्वावधान में मानसरोवर स्थित वीटी रोड मेला ग्राउंड में शनिवार को गुरु पूर्णिमा महोत्सव मनाया गया। शाम पांच बजे से देर रात तक चले आयोजन में हजारों श्रद्धालुओं ने सिद्धेश्वर ब्रह्मर्षि गुरुदेव के प्रवचन सुनकर समाज सेवा में जुटने का संकल्प लिया। इस अवसर पर गुरुवानंद स्वामी ने विभिन्न दृष्टांतों के माध्यम से कहा कि आदमी के अंदर प्रेम होना चाहिए। प्रेम से ही एक आदमी दूसरे आदमी से जुड़ा रहता है। गुरु वह होता है जो शिष्यों को सही मार्ग दिखाता है। गुरु भटकाता नहीं है। उन्होंने कहा कि संसार को बदलना है तो पहले अपनी सोच बदलनी होगी। गुरु पूर्णिमा महा महोत्सव समिति के अध्यक्ष प्रमोद पालीवाल और अंतरराष्ट्रीय समन्वयक अशोक संचेती ने बताया कि इस अवसर पर गुरु स्तुति, गुरुपाद पूजन, गुरु अमृतवाणी और महामांगलिक आशीर्वाद सहित सांस्कृतिक आयोजन हुए। आश्रम के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष संपत पोद्दार ने बताया कि गुरु पूर्णिमा महोत्सव में कनाडा, फ्रांस, स्पेन, इंग्लैंड, साइप्रस, स्वीडन, नॉर्वे और यूएस सहित लगभग तीन दर्जन देशों के अनुयायियों ने हिस्सा लिया। दो हजार सौ फीट लंबे और सवा लाख लोगों के हस्ताक्षर युक्त खुला पत्र गुरुदेव को भेंट किया गया। आगंतुकों के लिए 700 स्वागत द्वार बनाए गए। पूरे आयोजन स्थल को भगवा पताकाओं से सजाया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...