सचिन, कोहली को पछाड़ मयंक बने विराट

0
114

नई दिल्ली। श्रीलंका और बांग्लादेश में होने वाली त्रिकोणीय सीरीज के लिए भले ही भारतीय टीम में विस्फोटक बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को शामिल नहीं किया गया है। लेकिन, उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में 79 गेंदों में 90 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेलकर चयनकर्ताओं को करारा जवाब दिया है। कर्नाटक की तरफ से खेल रहे मयंक की इस पारी को देखकर ऐसा लग रहा था, जैसे त्रिकोणीय सीरीज में नहीं चुने जाने का गुस्सा उन्होंने सौराष्ट्र के गेंदबाजों पर उतारा है। अपनी इस पारी में मयंक ने 11 चौके और तीन गगनचुम्बी छक्के भी लगाए। खास बात यह है कि इस पारी के दौरान मयंक ने कई रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए और कई नए रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए।

पहले बल्लेबाज बने

मौजूदा विजय हजारे ट्राफी में मयंक 8 मैचों में 3 शतक और चार अर्धशतक ठोक चुके हैं। इस टूर्नामेंट में उनका दूसरा सबसे कम स्कोर 81 रन है। विजय हजारे ट्रॉफी के 8 मैचों में उन्होंने 109, 84, 28,102, 89, 104, 81 और 90 रन बनाए हैं। इसी के साथ कर्नाटक के इस बल्लेबाज ने एक ऐसा रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया जो सचिन और कोहली जैसे दिग्गज भी अपने नाम नहीं कर पाए थे। मयंक अग्रवाल भारत के घरेलू क्रिकेट में एक सीजन में 2000 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं।

मयंक ने दिग्गजों को भी छोड़ा पीछे

मयंक का विजय हजारे ट्रॉफी में अभी तक सफर शानदार रहा है। इस टूर्नामेंट में अपने बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत मयंक ने सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, दिनेश कार्तिक, रॉबिन उथप्पा जैसे खिलाडिय़ों को पीछे छोड़ दिया है। मयंक इस टूर्नामेंट में अभी तक 723 रन पूरे कर लिए हैं। मयंक से पहले इस टूर्नामेंट में कभी भी किसी बल्लेबाज की ओर से इतने रन नहीं बनाए गए हैं। साल 2016-17 में दिनेश कार्तिक ने 607 तो वहीं साल 2008-09 में विराट कोहली ने इस टूर्नामेंट में 534 रन बनाने में कामयाबी हासिल की थी। साथ ही इससे पहले यह रिकॉर्ड सचिन तेंदुलकर के नाम था, जिन्होंने एक टूर्नामेंट या सीरीज में सर्वाधिक 673 रन बनाए थे, सचिन ने ये कमाल साल 2003 में क्रिकेट विश्वकप के दौरान किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...