सत्यजीत रे का अनोखा किस्सा बताया शर्मीला टैगोर ने….

sharmila tagore

मुंबई l

अपने ज़माने की मशहूर अभिनेत्री शर्मीला टैगोर की माने तो भारतीय सिनेमा के बेहतरीन फिल्मकार सत्यजीत रे कभी भी अपने बाल कलाकारों से डायलॉग्स को रट्टा मार कर याद करने पर जोर नहीं देते थे l

दिल्ली में नेहरु मेमोरियल लाइब्रेरी में ‘री-विसिटिंग रे’ कांफ्रेंस-सेमीनार के दौरान सत्यजीत रे के दौर को याद करते हुए शर्मीला ने उस दौर की कई बातें बताई l

साल 1959 में सत्यजीत रे की बांग्ला फिल्म अपुर संसार से अपना फिल्मी करियर शुरू करने वाली शर्मीला ने बताया – “मैंने 13 साल की उम्र में अपना करियर शुरू किया थाl वो हमें ज़्यादा इंस्ट्रक्शन नहीं देते थे l

तब मुझे स्क्रिप्ट मिलती थी लेकिन कभी डायलॉग याद करने के लिए नहीं l सत्यजीत रे धीरे से आ कर कान में फुसफुसाते, ये सब जल्द से जल्द ख़त्म करना है l

हमें उनका रौब मालूम था लेकिन हम कभी भी नर्वस नहीं हुए”l शर्मीला कहती हैं उनका साफ़ साफ़ निर्देश होता था और उसका पालन करना भी बड़ा ही आसन था l

वो नए नए विचारों के धनी थे l कभी भी बाजार परक दुनिया से प्रभावित नहीं हुए l

शर्मीला टैगोर ने बताया कि वो सत्यजीत रे के समर्पण और काम के प्रति लगन से बेहद प्रभावित हुई हैं l

वो आज भी (उनका काम) देश और दुनिया के सबसे विश्वसनीय फिल्ममेकर माने जाते हैं l

उनके अप्पु ट्रायोलॉजी आज भी दुनिया की 100 सर्वकालिक श्रेष्ठ फिल्मों में मानी जाती है l

भारत के महान फिल्मकार सत्यजीत रे की पहली ही फिल्म पाथेर पांचाली को कान फिल्म फेस्टिवल सहित 11 जगहों से पुरस्कार मिले थे l

सत्यजीत रे अपनी फिल्मों की स्क्रिप्ट ख़ुद लिखते l कास्टिंग और एडिटिंग भी करते l अपनी फिल्म के क्रेडिट टाइटल भी ख़ुद डिजाइन करते और प्रचार की सामग्री भी ख़ुद तैयार करते l

इस मौके पर शर्मीला टैगोर ने कहा कि सत्यजीत रे का युग मल्टीप्लेक्स का युग नहीं था l लेकिन फिर भी उन्होंने जिस तरह से पाथेर पांचाली जैसी फिल्म के लिए पैसा जुटाया था वो बड़ा ही मुश्किल काम था l

अपने करियर में उन्हें कई बार पैसे की तंगी का सामना करना पड़ा l वो जिस तरह के हालत में फिल्में बनाते थे उसके बारे में आज कल्पना करना भी कठिन है l

Read Also:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...