सबरीमाला मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल

0
35

नई दिल्ली। सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सोमवार को पुनर्विचार याचिका दाखिल की गई है. इस याचिका में कहा गया है कि 28 सितंबर को आया फैसला पूरी तरह से तर्कहीन है जिसका समर्थन नहीं किया जा सकता. नेशनल अयप्‍पा डिवोटी एसोसिएशन की अध्‍यक्ष शैलजा विजयन ने इस पुनर्विचार याचिका ने दाखिल किया है.

शैलजा की अोर से कहा गया है कि जिन लोगों ने महिलाओं के प्रवेश पर उम्र के प्रतिबंध को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई, वे भगवान अयप्‍पा के भक्‍त नहीं हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मंदिर के प्रमुख देवता भगवान अयप्‍पा के लाखों भक्‍तों के मौलिक अधिकारों का हनन हुआ है.

गौरतलब है कि 28 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में केरल के सबरीमाला स्थित अय्यप्पा स्वामी मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दे दी थी.

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने 4:1 के बहुमत के फैसले में कहा कि केरल के सबरीमाला मंदिर में 10-50 आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लैंगिक भेदभाव है और इससे हिन्दू महिलाओं के अधिकारों का हनन होता है.

  • 1
    Share

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

loading...